भारतीय सब्जियों से लदी 41 ट्रकों को नेपाल ने वापस लौटाया

563854798

महराजगंज: नेपाल ने जांच में फेल होने पर भारत की 41 ट्रक फल-सब्जी लौटा दी है। भारत से नेपाल गए फल-सब्जियों में हानिकारक तत्वों की जांच बुटवल स्थित प्रयोगशाला में मंगलवार से शुरू हो गई।

Nepal Recovers 41 Trucks Laden With Indian Vegetables :

अब तक कुल 275 जांच नमूनों में 41 फेल पाए गए हैं। इनमें हानिकारक तत्वों की मात्रा सामान्य से कई गुना अधिक मिली।

बुटवल जांच प्रयोगशाला के इंचार्ज राम बहादुर खत्री ने बताया कि सोमवार तक सात दिनों में कुल 275 फल व सब्जियों के नमूनों के जांच परिणाम आए। कोई भी नमूना ऐसा नहीं मिला, जिसमें हानिकारक तत्वों की मात्रा शून्य हो। बावजूद इसके खाने लायक फल-सब्जियों को नेपाल में बिक्री की अनुमति दी गई।

भैरहवा भंसार कार्यालय के सूचना अधिकारी कालीराम पौडेल ने बताया कि सोनौली बॉर्डर से प्रतिदिन 50 से 60 फल-सब्जी लदे ट्रक नेपाल आ रहे हैं। उनके नमूने लेकर जांच के लिए बुटवल भेजा रहा है।

रिपोर्ट आने में करीब 25 से 30 घंटे लग जा रहे हैं। जांच रिपोर्ट के आधार पर ही फल, फूल व सब्जी लदे ट्रकों को नेपाल रवाना किया जा रहा है। नमूने फेल होने पर उन्हें बेलहिया कस्टम कार्यालय से ही लौटा दिया जा रहा है।

कारोबार प्रभावित

नेपाल सरकार ने सभी कस्टम कार्यालय पर 17 जून से भारत से आने वाली सब्जी, फल, फूल के परीक्षण के बाद ही देश में आपूर्ति का निर्देश दिया था। इसका सीधा असर भारतीय क्षेत्रों पर पड़ा।

सोनौली में वाहन दो से तीन दिनों तक खड़ रह रहे थे। परीक्षण रिपोर्ट काठमांडू से आने के बाद ही सब्जी लदे वाहनों को बेलहिया कस्टम से क्लीयरेंस दी जा रही थी। ऐसे में भारत के साथ ही नेपाल में भी कारोबार प्रभावित हुआ। पहले भारतीय दूतावास की पहल पर नेपाल मंत्रिमंडल ने नौ महीने तक परीक्षण पर रोक का फैसला लिया था।

लेकिन पिछली 11 जुलाई को नेपाल सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर फिर बिना विषाक्त परीक्षण के भारतीय फल व सब्जियों के आयात पर पुन: रोक लगा दी गई। इसी के तहत बुटवल स्थित प्रयोगशाला में जांच शुरू की गई है।

महराजगंज: नेपाल ने जांच में फेल होने पर भारत की 41 ट्रक फल-सब्जी लौटा दी है। भारत से नेपाल गए फल-सब्जियों में हानिकारक तत्वों की जांच बुटवल स्थित प्रयोगशाला में मंगलवार से शुरू हो गई। अब तक कुल 275 जांच नमूनों में 41 फेल पाए गए हैं। इनमें हानिकारक तत्वों की मात्रा सामान्य से कई गुना अधिक मिली। बुटवल जांच प्रयोगशाला के इंचार्ज राम बहादुर खत्री ने बताया कि सोमवार तक सात दिनों में कुल 275 फल व सब्जियों के नमूनों के जांच परिणाम आए। कोई भी नमूना ऐसा नहीं मिला, जिसमें हानिकारक तत्वों की मात्रा शून्य हो। बावजूद इसके खाने लायक फल-सब्जियों को नेपाल में बिक्री की अनुमति दी गई। भैरहवा भंसार कार्यालय के सूचना अधिकारी कालीराम पौडेल ने बताया कि सोनौली बॉर्डर से प्रतिदिन 50 से 60 फल-सब्जी लदे ट्रक नेपाल आ रहे हैं। उनके नमूने लेकर जांच के लिए बुटवल भेजा रहा है। रिपोर्ट आने में करीब 25 से 30 घंटे लग जा रहे हैं। जांच रिपोर्ट के आधार पर ही फल, फूल व सब्जी लदे ट्रकों को नेपाल रवाना किया जा रहा है। नमूने फेल होने पर उन्हें बेलहिया कस्टम कार्यालय से ही लौटा दिया जा रहा है। कारोबार प्रभावित नेपाल सरकार ने सभी कस्टम कार्यालय पर 17 जून से भारत से आने वाली सब्जी, फल, फूल के परीक्षण के बाद ही देश में आपूर्ति का निर्देश दिया था। इसका सीधा असर भारतीय क्षेत्रों पर पड़ा। सोनौली में वाहन दो से तीन दिनों तक खड़ रह रहे थे। परीक्षण रिपोर्ट काठमांडू से आने के बाद ही सब्जी लदे वाहनों को बेलहिया कस्टम से क्लीयरेंस दी जा रही थी। ऐसे में भारत के साथ ही नेपाल में भी कारोबार प्रभावित हुआ। पहले भारतीय दूतावास की पहल पर नेपाल मंत्रिमंडल ने नौ महीने तक परीक्षण पर रोक का फैसला लिया था। लेकिन पिछली 11 जुलाई को नेपाल सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर फिर बिना विषाक्त परीक्षण के भारतीय फल व सब्जियों के आयात पर पुन: रोक लगा दी गई। इसी के तहत बुटवल स्थित प्रयोगशाला में जांच शुरू की गई है।