भारत-चीन ​सीमा विवाद पर नेपाल बोला-दोनों देश मतभेद को शांति से सुलझाए

nepal
भारत-चीन ​सीमा विवाद पर नेपाल बोला-दोनों देश मतभेद को शांति से सुलझाए

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच चल रहे विवाद को लेकर नेपाल सरकार ने अपना बयान जारी किया है। नेपाल ने कहा कि हमें विश्वास है कि हमारे मित्र पड़ोसी भारत और चीन अच्छे पड़ोसी की भावना से, द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और विश्व शांति और स्थिरता के पक्ष में शांतिपूर्ण साधनों के माध्यम से अपने आपसी मतभेदों को हल करेंगे।

Nepal Spoke On Indo China Border Dispute Both Countries Resolve Differences Peacefully :

नेपाल के विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि नेपाल मानता है कि दोनों देशों के बीच हुए मतभेद शांति से सुलझाए जाने चाहिए। नेपाल हमेशा स्थानीय और विश्व शांति के लिए दृढ़ता से खड़ा रहा है। हाल ही में हमारे दो पड़ोसी मित्रों भारत और चीन के बीच गलवान घाटी में हुए घटनाक्रमों के संदर्भ में, नेपाल को विश्वास है कि दोनों ही पड़ोसी देश इस मामले को अच्छे पड़ोसियों की तरह शांति से द्विपक्षीय, स्थानीय और विश्व शांति को कायम रखते हुए सुलझा लेंगे।

गौरतलब है कि 5 मई से भारत और चीन के बीच तनातनी चल रही है। 15-16 जून की दरम्यानी रात भारत और चीन के बीच की ये झड़प हिंसक हो गई और इसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे।

 

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच चल रहे विवाद को लेकर नेपाल सरकार ने अपना बयान जारी किया है। नेपाल ने कहा कि हमें विश्वास है कि हमारे मित्र पड़ोसी भारत और चीन अच्छे पड़ोसी की भावना से, द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और विश्व शांति और स्थिरता के पक्ष में शांतिपूर्ण साधनों के माध्यम से अपने आपसी मतभेदों को हल करेंगे। नेपाल के विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि नेपाल मानता है कि दोनों देशों के बीच हुए मतभेद शांति से सुलझाए जाने चाहिए। नेपाल हमेशा स्थानीय और विश्व शांति के लिए दृढ़ता से खड़ा रहा है। हाल ही में हमारे दो पड़ोसी मित्रों भारत और चीन के बीच गलवान घाटी में हुए घटनाक्रमों के संदर्भ में, नेपाल को विश्वास है कि दोनों ही पड़ोसी देश इस मामले को अच्छे पड़ोसियों की तरह शांति से द्विपक्षीय, स्थानीय और विश्व शांति को कायम रखते हुए सुलझा लेंगे। गौरतलब है कि 5 मई से भारत और चीन के बीच तनातनी चल रही है। 15-16 जून की दरम्यानी रात भारत और चीन के बीच की ये झड़प हिंसक हो गई और इसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे।