1. हिन्दी समाचार
  2. नेपाल के स्कूलों ने चीनी भाषा पढ़ाना अनिवार्य ,चीनी दूतावास देगा शिक्षको की सैलरी

नेपाल के स्कूलों ने चीनी भाषा पढ़ाना अनिवार्य ,चीनी दूतावास देगा शिक्षको की सैलरी

Nepali Schools To Teach Chinese Language Compulsory Chinese Embassy Will Give Teachers Salaries

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

महराजगंज::नेपाल के कई स्कूलों ने छात्रों के लिए चीनी (मेंडरिन)भाषा सीखना अनिवार्य कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, यह फैसला चीन सरकार के उस प्रस्ताव के बाद लिया गया, जिसमें मेंडरिन के शिक्षकों का वेतन काठमांडू स्थित चीनी दूतावास के द्वारा दिए जाने की बात कही गई थी। नेपाल सरकार ने कहा कि स्कूलों के पास किसी विषय को अनिवार्य करने का अधिकार नहीं है।

पढ़ें :- विकास भवन द्वारा कराए जा रहे विकास कार्यों को सीडीओ ने पत्रकारों से किया साझा

चीनी भाषा पहले ही अनिवार्य विषय के रूप में शामिल: स्कूल

नेपाल के 10 बड़े स्कूलों के प्राचार्य और स्टाफ ने एक अखबार से हुई बातचीत में कहा कि चीनी भाषा (मेंडरिन) पहले ही अनिवार्य विषय के रूप में शामिल थी। इसके शिक्षकों की सैलरी काठमांडू में चीनी दूतावास से दी जाती है।

एलआरआई स्कूल के फाउंडर शिवराज पंत ने कहा, ”पोखरा, धुलीखेल और देश के कुछ हिस्सों में मौजूद निजी स्कूलों में भी मेंडरिन को विद्यार्थियों के लिए अनिवार्य कर दिया गया है।”

युनाइटेड स्कूल के प्राचार्य कुलदीप एन. ने बताया कि हमने दो साल पहले ही मेंडरिन को अनिवार्य विषय के तौर पर लागू कर दिया था। चीनी दूतावास ने हमें इसके लिए मुफ्त में शिक्षक मुहैया कराए जाने की बात कही थी।

पढ़ें :- विश्व एड्स दिवस पर हुआ विशेष आयोजन

नेपाल में स्कूलों के लिए पाठ्यक्रम तैयार करने का जिम्मा सरकार के पाठ्यक्रम विकास केंद्र के पास है। जो स्कूल मेंडरिन पढ़ा रहे हैं, उन्हें इसकी जानकारी भी है। लेकिन उन्होंने मेंडरिन को अनिवार्य विषय के तौर पर शामिल किया, क्योंकि इसके शिक्षक मुफ्त में मिल जाते हैं।

स्कूल किसी विषय को अनिवार्य नहीं कर सकते

सरकारी पाठ्यक्रम विभाग के सूचना अधिकारी गणेश प्रसाद भट्टारी ने कहा, ‘‘स्कूलों को विदेशी भाषा पढ़ाने की अनुमति है। मगर वे किसी भी विषय को विद्यार्थियों के लिए अनिवार्य नहीं कर सकते हैं। यदि कोई विषय अनिवार्य करना भी है तो इसका निर्णय सरकार करती है। यह स्कूलों का अधिकार नहीं है।’’

शुवातारा स्कूल के प्राचार्य के.तिमसिना ने कहा- ‘‘हम मानते हैं कि बच्चों को भी अपनी पसंद बताने की अनुमति मिलना चाहिए। यदि कोई जापानी या जर्मन पढ़ाना चाहे तो हम उनका भी स्वागत ही करेंगे।’’ एपेक्स लाइफ स्कूल के प्राचार्य हरि दहल ने कहा- हम चीनी शिक्षकों को उनके आने-जाने और भोजन का भत्ता देते हैं।

पढ़ें :- गौहर खान ने खास अंदाज मे किया शादी का खुलासा, शेयर की रोमांटिक तस्वीरें

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...