सावन महीने में न पहने इस रंग का कपड़ा, भोले बाबा हो जाएंगे नाराज़

lord shiv,सावन महीने में न पहने इस रंग का कपड़ा, भोले बाबा
सावन महीने में न पहने इस रंग का कपड़ा, भोले बाबा हो जाएंगे नाराज़

लखनऊ। भगवान शिव को बेहद प्रिय माह सावन में सभी भोले बाबा के भक्त उनकी पूजा सच्चे मन से करते हैं। मान्यता है कि सावन में सच्चे दिल से भोलेबाबा की अराधना करने वाले भक्तों की सभी मनोकामनाएं जल्द पूरी हो जाती है। खास बात यह है कि जिस तरह इस महीने खाने पीने की कुछ चीजों पर रोक होती है ठीक उसी तरह इस महीने में पहने जाने वाले कपड़ों को लेकर भी कई तरह की मान्यताएं हैं।

Never Wear Black Colour Clothes While Worshing Lord Shiva :

सावन में न पहने ऐसे कपड़े

  • जिस तरह शास्त्रों में लाल रंग को हर शादीशुदा महिला के जीवन में खुशियां और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है ठीक उसी तरह हरा रंग भी उनके जीवन में काफी महत्वपूर्ण स्थान रखता है।
  • सावन के महीने में औरतें हरी चूड़ियां इसलिए पहनती हैं ताकि उन्हें शिव जी का आशीर्वाद मिले और उनके पति की लंबी आयु हो। बता दें, शिव पूजा में हरे या किसी भी अन्य रंग के कपड़े पहने जा सकते हैं लेकिन इस दौरान जिस एक रंग को पहनना वर्जित माना गया है वो है काला रंग। शिव पूजा में काले रंग के कपड़ों को पहनना बहुत अशुभ माना जाता है।

इसलिए काला रंग है अशुभ

माना जाता है कि काला रंग भगवान शिव को बिल्कुल भी पसंद नहीं है। इस रंग को देखते ही वह क्रोधित हो जाते हैं। यदि आप शिव के प्रकोप से बचना चाहते हैं या फिर उनकी कृपा पाना चाहते हैं तो इस बात का विशेष ध्यान रखें कि पूजा करते समय काले कपड़ों को न पहनें। भगवान शिव एक योगी थे और उन्हें प्रकृति की सुंदरता के बीच ध्यान में बैठना बहुत ही पसंद था। हरा रंग पहनने से भी महादेव प्रसन्न होते हैं इसलिए महिलाएं सावन के महीने में सिर्फ एक नहीं बल्कि कई कारणों से हरा रंग पहनती हैं।

लखनऊ। भगवान शिव को बेहद प्रिय माह सावन में सभी भोले बाबा के भक्त उनकी पूजा सच्चे मन से करते हैं। मान्यता है कि सावन में सच्चे दिल से भोलेबाबा की अराधना करने वाले भक्तों की सभी मनोकामनाएं जल्द पूरी हो जाती है। खास बात यह है कि जिस तरह इस महीने खाने पीने की कुछ चीजों पर रोक होती है ठीक उसी तरह इस महीने में पहने जाने वाले कपड़ों को लेकर भी कई तरह की मान्यताएं हैं।सावन में न पहने ऐसे कपड़े
  • जिस तरह शास्त्रों में लाल रंग को हर शादीशुदा महिला के जीवन में खुशियां और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है ठीक उसी तरह हरा रंग भी उनके जीवन में काफी महत्वपूर्ण स्थान रखता है।
  • सावन के महीने में औरतें हरी चूड़ियां इसलिए पहनती हैं ताकि उन्हें शिव जी का आशीर्वाद मिले और उनके पति की लंबी आयु हो। बता दें, शिव पूजा में हरे या किसी भी अन्य रंग के कपड़े पहने जा सकते हैं लेकिन इस दौरान जिस एक रंग को पहनना वर्जित माना गया है वो है काला रंग। शिव पूजा में काले रंग के कपड़ों को पहनना बहुत अशुभ माना जाता है।
इसलिए काला रंग है अशुभमाना जाता है कि काला रंग भगवान शिव को बिल्कुल भी पसंद नहीं है। इस रंग को देखते ही वह क्रोधित हो जाते हैं। यदि आप शिव के प्रकोप से बचना चाहते हैं या फिर उनकी कृपा पाना चाहते हैं तो इस बात का विशेष ध्यान रखें कि पूजा करते समय काले कपड़ों को न पहनें। भगवान शिव एक योगी थे और उन्हें प्रकृति की सुंदरता के बीच ध्यान में बैठना बहुत ही पसंद था। हरा रंग पहनने से भी महादेव प्रसन्न होते हैं इसलिए महिलाएं सावन के महीने में सिर्फ एक नहीं बल्कि कई कारणों से हरा रंग पहनती हैं।