1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. हीरे के साथ मोती, पन्ना और ये 3 अन्य रत्न कभी न पहनें

हीरे के साथ मोती, पन्ना और ये 3 अन्य रत्न कभी न पहनें

ज्योतिष शास्त्र में मोती धारण करना शुभ माना जाता है क्योंकि इससे मन शांत होता है और मानसिक तनाव दूर होता है। हालांकि, हीरे और पन्ना जैसे रत्नों के साथ पहना जाए तो यह बहुत हानिकारक साबित हो सकता है। जानिए सकारात्मक परिणाम के लिए आपको किन रत्नों के साथ मोती धारण करना चाहिए।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

ज्योतिष शास्त्र में मोती रत्न को चंद्रमा का कारक बताया गया है। रत्न शास्त्र के अनुसार ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति मोती धारण करता है उस पर हमेशा देवी लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। मोती व्यक्ति की प्रगति में भी सहायक होता है। मोती मन पर शांत प्रभाव डालने वाला माना जाता है। लेकिन कभी-कभी बिना किसी की कुंडली पर विचार किए पहने जाने पर इसका नकारात्मक प्रभाव भी पड़ सकता है। हां, चूंकि मोती चंद्रमा का कारक है, इसलिए जिन लोगों की राशि चंद्रदेव से शत्रुतापूर्ण है, उन्हें मोती धारण करने से बचना चाहिए। साथ ही कई रत्नों को एक साथ मिलाकर धारण नहीं करना चाहिए। इसका नकारात्मक प्रभाव भी पड़ता है।

पढ़ें :- Shakun Shastra: सावन मास में असहाय वंचितों को दान देने का अनंत गुना फल प्राप्त होता है, जानिए इस मास में करने वाले शुभ कार्य

मोती को किस रत्न से धारण करना चाहिए

मोती को पीले पुखराज या मूंगे के साथ धारण करना चाहिए। यह शुभ फल देगा।

मोती को किस रत्न के साथ नहीं धारण करना चाहिए

यदि कोई व्यक्ति हीरा, पन्ना, गोमेद, लेहसुनिया या वैदुर्य और नीलम धारण करता है तो उसे मोती के साथ संयोजन करने से बचना चाहिए। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्रमा के अशुभ प्रभाव को कम करने के लिए मोती धारण किया जाता है। शुक्र, शनि, बुध के साथ चंद्रमा की शत्रुता के कारण मोती पर हानिकारक प्रभाव पड़ेगा और मानसिक तनाव बढ़ सकता है।

पढ़ें :- Vastu Tips : घर में दर्पण को लेकर ये बात जानना जरूरी है, जानिए वास्तु नियम

किस राशि के जातकों को मोती नहीं धारण करना चाहिए

ज्योतिष शास्त्र कहता है कि जिन लोगों की राशि के स्वामी बुध, शुक्र, शनि और राहु हैं उन्हें कभी भी मोती नहीं पहनना चाहिए। मोती इन राशि के जातकों को नुकसान पहुंचाते हैं। यानी वृष, मिथुन, कन्या, मकर और कुंभ लग्न के लोगों को मोती नहीं पहनना चाहिए. अगर ऐसे लोग मोती धारण करते हैं तो उनका मन विचलित हो जाता है और जीवन में उथल-पुथल शुरू हो जाती है।

जिन लोगों की कुंडली में चंद्रमा बारहवें या दसवें भाव में स्थित है, उन्हें भी मोती धारण करने की सलाह नहीं दी जाती है।

 

पढ़ें :- Mars Transit June 2022 : इस दिन मंगल देव करेंगे मेष राशि में प्रवेश, इन राशियों को होगा जबरदस्त लाभ
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...