पार्टी के दिशाहीन होने की अवधारणा तोड़ने के लिए जल्द ही नए अध्यक्ष की खोज करनी चाहिए : शशि थरूर

shahsi tharur
संसद के मॉनसून सत्र की तैयारियां के बीच प्रश्नकाल ना होने से भड़का विपक्ष, इस फैसले को बताया लोकतंत्र की हत्या

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने आज एक बड़ा ​बयान दिया है। उन्होंने पार्टी के लिए नए अध्यक्ष खोजने की मांग की है। उन्होंने कहा कि पार्टी के दिशाहीन होने की अवधारणा तोड़ने के लिए पूर्णकालिक अध्यक्ष की खोज तेज कर देनी चाहिए।

New President Should Be Searched Soon To Break Concept Of Party Being Directionless Shashi Tharoor :

इसके साथ ही कहा कि सोनिया गांधी से अनिश्चितकाल के लिए अंतरिम प्रमुख का बोझ उठाने की उम्मीद करना अनुचित है। बता दें कि, शशि थरूर ने यह बात उस समय कही है जब सोनिया गांधी के कार्यकाल के एक वर्ष पूरे होने वाले हैं।

उन्होने कहा कि, मैं मानता हूं कि हमें अपने नेतृत्व को लेकर स्पष्ट होना चाहिए। पिछले साल सोनिया गांधी की अंतरिम अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति का मैंने स्वागत किया था, लेकिन मैं यह भी मानता हूं कि यह अनुचित है कि हम उनसे अनंत समय तक इस बोझ को उठाए रखने की उम्मीद करें।

थरूर ने यह भी कहा कि राहुल गांधी ने में वह ‘दम और काबिलियत’ है कि वह पार्टी का फिर से नेतृत्व कर सकते हैं। हालांकि, अगर राहुल फिर अध्यक्ष नहीं बनना चाहते तो कांग्रेस को नया अध्यक्ष चुनने की कवायद शुरू कर देनी चाहिए।

 

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने आज एक बड़ा ​बयान दिया है। उन्होंने पार्टी के लिए नए अध्यक्ष खोजने की मांग की है। उन्होंने कहा कि पार्टी के दिशाहीन होने की अवधारणा तोड़ने के लिए पूर्णकालिक अध्यक्ष की खोज तेज कर देनी चाहिए। इसके साथ ही कहा कि सोनिया गांधी से अनिश्चितकाल के लिए अंतरिम प्रमुख का बोझ उठाने की उम्मीद करना अनुचित है। बता दें कि, शशि थरूर ने यह बात उस समय कही है जब सोनिया गांधी के कार्यकाल के एक वर्ष पूरे होने वाले हैं। उन्होने कहा कि, मैं मानता हूं कि हमें अपने नेतृत्व को लेकर स्पष्ट होना चाहिए। पिछले साल सोनिया गांधी की अंतरिम अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति का मैंने स्वागत किया था, लेकिन मैं यह भी मानता हूं कि यह अनुचित है कि हम उनसे अनंत समय तक इस बोझ को उठाए रखने की उम्मीद करें। थरूर ने यह भी कहा कि राहुल गांधी ने में वह 'दम और काबिलियत' है कि वह पार्टी का फिर से नेतृत्व कर सकते हैं। हालांकि, अगर राहुल फिर अध्यक्ष नहीं बनना चाहते तो कांग्रेस को नया अध्यक्ष चुनने की कवायद शुरू कर देनी चाहिए।