भारतीय रेल की नई पहल, इंदौर से चलने वाली 39 ट्रेनों में मिलेगी मसाज सर्विस

railway
भारतीय रेल की नई पहल, इंदौर से चलने वाली 39 ट्रेनों में मिलेगी मसाज सर्विस

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने यात्रियों के लिए ट्रेन में सिर की चम्पी और पैर की तेल मालिश की सुविधा शुरू करने की घोषणा की है। रेलवे के एक अधिकारी ने शनिवार को जानकारी दी कि फिलहाल मालिश की सुविधा इंदौर से चलने वाली 39 रेलों में उपलब्ध होगी। अधिकारी ने बताया कि यह प्रस्ताव वेस्टर्न रेलवे जोन की रतलाम डिवीजन की ओर से रखा गया।

New Trains For Indian Railways 39 Trains Running From Indore Massage Service :

अधिकारी ने कहा, ‘भारतीय रेल के इतिहास में पहली बार यात्रियों की सुविधा के लिए चलती ट्रेन में मसाज सर्विस उपलब्ध कराई जाएगी। इससे न केवल रेवेन्यू बढ़ेगा बल्कि ज्यादा यात्री भी बढ़ेंगे। रेलवे को इससे 20 लाख रुपये का अतिरिक्त सालाना रेवेन्यू मिलेगा और अनुमान है कि 20,000 सर्विस प्रोवाइडर्स को टिकट बेचने से 90 लाख रुपये की कीमत के टिकटों की अतिरिक्त बिक्री भी होगी।’

बाजपेयी ने कहा, “यह रेलवे के इतिहास में पहली बार होगा कि यात्रियों के आराम को ध्यान में रखते हुए उन्हें चलती रेलगाड़ी में मालिश सेवा दी जाएगी।” इससे न केवल रेलवे की अतिरिक्त आय होगी बल्कि यात्रियों की संख्या में भी इजाफा होगा। उन्होंने कहा कि ऐसा पहली बार है जब इस तरह का कोई समझौता किया गया है।

बाजपेयी ने कहा कि इससे रेलवे को सालाना 20 लाख रुपये की आय होने की उम्मीद है और सेवा प्रदान करने वाले 20,000 अतिरिक्त यात्रियों के चलते अतिरिक्त टिकट बिक्री बढ़ने से साल भर में 90 लाख रुपये की आय बढ़ने का अनुमान है।

उन्होंने कहा कि इस सेवा को 15 से 20 दिनों में शुरू कर दिया जाएगा। यह सेवा सुबह छह से रात 10 बजे के बीच रहेगी। यात्रियों को सिर और पैर की मालिश के लिए प्रत्येक के लिए 100 रुपये देने होंगे। इसके लिए हर रेलगाड़ी में तीन से पांच मालिश वाले यात्रा करेंगे। रेलवे उन्हें पहचान पत्र जारी करेगा।

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने यात्रियों के लिए ट्रेन में सिर की चम्पी और पैर की तेल मालिश की सुविधा शुरू करने की घोषणा की है। रेलवे के एक अधिकारी ने शनिवार को जानकारी दी कि फिलहाल मालिश की सुविधा इंदौर से चलने वाली 39 रेलों में उपलब्ध होगी। अधिकारी ने बताया कि यह प्रस्ताव वेस्टर्न रेलवे जोन की रतलाम डिवीजन की ओर से रखा गया। अधिकारी ने कहा, 'भारतीय रेल के इतिहास में पहली बार यात्रियों की सुविधा के लिए चलती ट्रेन में मसाज सर्विस उपलब्ध कराई जाएगी। इससे न केवल रेवेन्यू बढ़ेगा बल्कि ज्यादा यात्री भी बढ़ेंगे। रेलवे को इससे 20 लाख रुपये का अतिरिक्त सालाना रेवेन्यू मिलेगा और अनुमान है कि 20,000 सर्विस प्रोवाइडर्स को टिकट बेचने से 90 लाख रुपये की कीमत के टिकटों की अतिरिक्त बिक्री भी होगी।' बाजपेयी ने कहा, "यह रेलवे के इतिहास में पहली बार होगा कि यात्रियों के आराम को ध्यान में रखते हुए उन्हें चलती रेलगाड़ी में मालिश सेवा दी जाएगी।" इससे न केवल रेलवे की अतिरिक्त आय होगी बल्कि यात्रियों की संख्या में भी इजाफा होगा। उन्होंने कहा कि ऐसा पहली बार है जब इस तरह का कोई समझौता किया गया है। बाजपेयी ने कहा कि इससे रेलवे को सालाना 20 लाख रुपये की आय होने की उम्मीद है और सेवा प्रदान करने वाले 20,000 अतिरिक्त यात्रियों के चलते अतिरिक्त टिकट बिक्री बढ़ने से साल भर में 90 लाख रुपये की आय बढ़ने का अनुमान है। उन्होंने कहा कि इस सेवा को 15 से 20 दिनों में शुरू कर दिया जाएगा। यह सेवा सुबह छह से रात 10 बजे के बीच रहेगी। यात्रियों को सिर और पैर की मालिश के लिए प्रत्येक के लिए 100 रुपये देने होंगे। इसके लिए हर रेलगाड़ी में तीन से पांच मालिश वाले यात्रा करेंगे। रेलवे उन्हें पहचान पत्र जारी करेगा।