महाराष्ट्र में आया नया मोड़, कांग्रेस नेता ने सोनिया से की शिवसेना को समर्थन देने की मांग

soniya
महाराष्ट्र में आया नया मोड़, कांग्रेस नेता ने सोनिया से की शिवसेना को समर्थन देने की मांग

मुम्बई। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद अभी तक कोई भी पार्टी सरकार बनाने का दावा नही पेस कर पायी है। भाजपा शिवसेना ने समर्थन में चुनाव लड़ा, पूर्ण बहुमत भी आया लेकिन 50—50 फार्मु्ले का पेंच फंस गया तो दोनो पार्टियों के नेता अलग अलग बयानबाजी करने लगे। शिवसेना किसी भी हालत में फार्मुले में सहमति के बिना साथ मिलकर सरकार बनाने को तैयार नही है। अब ऐसे में कांगेस और एनसीपी पर भी सबकी निगाहें टिकी हैं। एक कांग्रेस नेता ने सोनिया गांधी से शिवसेना को समर्थन देने की मांग करके महाराष्ट्र की रा​जनीति में नया मोड़ ला दिया है।

New Twist In Maharashtra Congress Leader Demands Sonia To Support Shiv Sena :

महाराष्ट्र कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सांसद हुसैन दलवई ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक चिट्ठी लिखी है कि कांग्रेस, महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देकर सरकार बनाने की तरफ कदम उठाये। उन्होने कहा कि महाराष्ट्र में शिवसेना और बीजेपी में सरकार गठन पर सहमति नहीं बन पा रही है, ऐसे में कांग्रेस, अल्पसंख्यक समुदाय के लोग, एनसीपी और शिवसेना को साथ मिलकर सरकार बनाना चाहिए। उन्होने याद दिलाया कि पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल और प्रणब मुखर्जी के चुनाव के दौरान भी शिवसेना ने हमारा साथ दिया था।

कांग्रेस नेता ने हालांकि इस चिटठी को अपने निजी विचार बताये हैं, उन्होने कहा ‘सब जानते हैं कि विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने हमारे कई विधायक और नेताओं को अपने खेमे में शामिल कर लिया था। इस बार भी भाजपा पूरे प्रयास कर सकती है, अगर भाजपा को रोकना है तो हमें शिवसेना से हाथ मिलाना चाहिए। ये कदम उठाने से हमारा आधार भी मजबूत हो जायेगा। उन्होने यह भी कहा कि पूरा देश आज बाबरी मस्जिद विवाद मामले में कानून व्यवस्था की स्थिति पर चिंतित है, महाराष्ट्र में अल्पसंख्यक समुदाय लिंचिंग पर भाजपा सरकार के एजेंडा को लेकर भी अतिसंवेदनशील हैं।

मुम्बई। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद अभी तक कोई भी पार्टी सरकार बनाने का दावा नही पेस कर पायी है। भाजपा शिवसेना ने समर्थन में चुनाव लड़ा, पूर्ण बहुमत भी आया लेकिन 50—50 फार्मु्ले का पेंच फंस गया तो दोनो पार्टियों के नेता अलग अलग बयानबाजी करने लगे। शिवसेना किसी भी हालत में फार्मुले में सहमति के बिना साथ मिलकर सरकार बनाने को तैयार नही है। अब ऐसे में कांगेस और एनसीपी पर भी सबकी निगाहें टिकी हैं। एक कांग्रेस नेता ने सोनिया गांधी से शिवसेना को समर्थन देने की मांग करके महाराष्ट्र की रा​जनीति में नया मोड़ ला दिया है। महाराष्ट्र कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सांसद हुसैन दलवई ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक चिट्ठी लिखी है कि कांग्रेस, महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देकर सरकार बनाने की तरफ कदम उठाये। उन्होने कहा कि महाराष्ट्र में शिवसेना और बीजेपी में सरकार गठन पर सहमति नहीं बन पा रही है, ऐसे में कांग्रेस, अल्पसंख्यक समुदाय के लोग, एनसीपी और शिवसेना को साथ मिलकर सरकार बनाना चाहिए। उन्होने याद दिलाया कि पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल और प्रणब मुखर्जी के चुनाव के दौरान भी शिवसेना ने हमारा साथ दिया था। कांग्रेस नेता ने हालांकि इस चिटठी को अपने निजी विचार बताये हैं, उन्होने कहा 'सब जानते हैं कि विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने हमारे कई विधायक और नेताओं को अपने खेमे में शामिल कर लिया था। इस बार भी भाजपा पूरे प्रयास कर सकती है, अगर भाजपा को रोकना है तो हमें शिवसेना से हाथ मिलाना चाहिए। ये कदम उठाने से हमारा आधार भी मजबूत हो जायेगा। उन्होने यह भी कहा कि पूरा देश आज बाबरी मस्जिद विवाद मामले में कानून व्यवस्था की स्थिति पर चिंतित है, महाराष्ट्र में अल्पसंख्यक समुदाय लिंचिंग पर भाजपा सरकार के एजेंडा को लेकर भी अतिसंवेदनशील हैं।