अयोध्या विवाद: 1993 में जमीन का अधिग्रहण अवैध, नई याचिका दाखिल

suprime court
ईवीएम- वीवीपैट को लेकर 'सुप्रीम' फैसला, अब एक नहीं 5 EVM -VVPAT का होगा मिलान

लखनऊ। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को एक और याचिका दाखिल की है। सात लोगों द्वारा दायर की गई इस याचिका में भूमि अधिग्रहण एक्ट को लेकर सवाल उठाया गया है। अब इस अर्जी के विरोध में सुप्रीम कोर्ट में नई याचिका डाली गई है। याचिकाकर्ता ने लैंड ऐक्विजिशन ऐक्ट की वैधता पर सवाल उठाया।

New Writ Petition Has Been Filed In The Ayodhya Case :

सुप्रीम कोर्ट में याचिकाकर्ता का कहना है कि राज्य सूची के विषयों की आड़ में केंद्र सरकार राज्य की भूमि अधिग्रहित नहीं कर सकती। पिछले सप्ताह ही केंद्र सरकार ने 67 एकड़ गैर-विवादित जमीन मूल मालिकों को लौटाने के लिए अर्जी दी थी। सरकार के इस कदम का जहां राम जन्मभूमि न्यास ने स्वागत किया था, वहीं कुछ अन्य संगठनों ने इसका विरोध किया।

याचिका में कहा गया है कि भूमि और कानून व्यवस्था राज्य सूची के विषय हैं। केंद्र को कानून बनाकर राज्य की भूमि अधिग्रहीत करने का अधिकार नहीं है। जब अधिग्रहण ही अवैध तो जमीन वापस देने में क्या परेशानी

बता दें कि अयोध्या में विवादित ज़मीन 0.313 एकड़ है, जिसके मालिकाना हक का मुक़दमा सुप्रीम कोर्ट मे लंबित है। 1993 मे केन्द्र ने अयोध्या मे 67 एकड़ ज़मीन अधिग्रहीत की थी।

लखनऊ। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को एक और याचिका दाखिल की है। सात लोगों द्वारा दायर की गई इस याचिका में भूमि अधिग्रहण एक्ट को लेकर सवाल उठाया गया है। अब इस अर्जी के विरोध में सुप्रीम कोर्ट में नई याचिका डाली गई है। याचिकाकर्ता ने लैंड ऐक्विजिशन ऐक्ट की वैधता पर सवाल उठाया। सुप्रीम कोर्ट में याचिकाकर्ता का कहना है कि राज्य सूची के विषयों की आड़ में केंद्र सरकार राज्य की भूमि अधिग्रहित नहीं कर सकती। पिछले सप्ताह ही केंद्र सरकार ने 67 एकड़ गैर-विवादित जमीन मूल मालिकों को लौटाने के लिए अर्जी दी थी। सरकार के इस कदम का जहां राम जन्मभूमि न्यास ने स्वागत किया था, वहीं कुछ अन्य संगठनों ने इसका विरोध किया। याचिका में कहा गया है कि भूमि और कानून व्यवस्था राज्य सूची के विषय हैं। केंद्र को कानून बनाकर राज्य की भूमि अधिग्रहीत करने का अधिकार नहीं है। जब अधिग्रहण ही अवैध तो जमीन वापस देने में क्या परेशानी बता दें कि अयोध्या में विवादित ज़मीन 0.313 एकड़ है, जिसके मालिकाना हक का मुक़दमा सुप्रीम कोर्ट मे लंबित है। 1993 मे केन्द्र ने अयोध्या मे 67 एकड़ ज़मीन अधिग्रहीत की थी।