नये साल का आगाज, कश्मीर में SMS, इंटरनेट सेवाएं हुई बहाल

kashmir
नये साल का आगाज, कश्मीर में SMS, इंटरनेट सेवाएं हुई बहाल

श्रीनगर। मंगलवार रात जैसे ही 12 बजे तो नये साल का आगाज हो गया और इसी के चलते जम्मू कश्मीर को सरकार ने एक बड़ा तोहफा दिया है। दरअसल 5 अगस्त से जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 समाप्त हुआ था और तभी से वहां पर सारी इंटरनेट और एसएमएस सेवाएं बंद कर दी गयीं थी। लेकिन नये साल में एसएमएस व कुछ इंटरनेट सेवाएं शुरू कर दी गयी हैं। हलांकि कुछ जगह अभी भी ब्राडबैंड इंटरनेट सेवा पर पाबंदी है। इसको लेकर स्थानीय लोगों में काफी खुशी है।

New Year Begins Sms Internet Services Restored In Kashmir :

आपको बता दें कि पांच अगस्त को कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाकर इसका विशेष दर्जा छीन लिया गया था और फिर इसे दो हिस्सों में बांट दिया गया था, पहला जम्मू-कश्मीर और दूसरा लद्दाख। इन दोनो प्रदेशों को केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया था और तभी से यहां पर फोन, एसएमएस और इंटरनेट सेवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। इससे पहले लैंडलाइन सेवाएं, पोस्ट पेड मोबाइल फोन सेवाएं शुरू की जा चुकी हैं।

जम्मू-कश्मीर के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने बताया कि सरकार जम्मू-कश्मीर के सरकारी अस्पतालों, स्कूलों में ब्रोडबैंड इंटरनेट सेवाएं शुरू कर रही है साथ ही पूरे राज्य में एसएमएस सेवा को पूरी तरह से बहाल कर दिया गया है। उन्होंने ये भी बताया कि हालात में बदलाव के हिसाब से हिरासत में रखे गए लोगों को भी छोड़ने का फ़ैसला होगा। कुछ लोगों को पहले ही छोड़ दिया गया है। बताया गया कि कारगिल के अलावा केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के कई जिलों में अभी भी इंटरनेट सेवाएं नही शुरू की गयीं। मोबाईल इंटरनेट शुरू होने से स्थानीय लोग काफी खुश नजर आ रहे हैं।

श्रीनगर। मंगलवार रात जैसे ही 12 बजे तो नये साल का आगाज हो गया और इसी के चलते जम्मू कश्मीर को सरकार ने एक बड़ा तोहफा दिया है। दरअसल 5 अगस्त से जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 समाप्त हुआ था और तभी से वहां पर सारी इंटरनेट और एसएमएस सेवाएं बंद कर दी गयीं थी। लेकिन नये साल में एसएमएस व कुछ इंटरनेट सेवाएं शुरू कर दी गयी हैं। हलांकि कुछ जगह अभी भी ब्राडबैंड इंटरनेट सेवा पर पाबंदी है। इसको लेकर स्थानीय लोगों में काफी खुशी है। आपको बता दें कि पांच अगस्त को कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाकर इसका विशेष दर्जा छीन लिया गया था और फिर इसे दो हिस्सों में बांट दिया गया था, पहला जम्मू-कश्मीर और दूसरा लद्दाख। इन दोनो प्रदेशों को केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया था और तभी से यहां पर फोन, एसएमएस और इंटरनेट सेवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। इससे पहले लैंडलाइन सेवाएं, पोस्ट पेड मोबाइल फोन सेवाएं शुरू की जा चुकी हैं। जम्मू-कश्मीर के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने बताया कि सरकार जम्मू-कश्मीर के सरकारी अस्पतालों, स्कूलों में ब्रोडबैंड इंटरनेट सेवाएं शुरू कर रही है साथ ही पूरे राज्य में एसएमएस सेवा को पूरी तरह से बहाल कर दिया गया है। उन्होंने ये भी बताया कि हालात में बदलाव के हिसाब से हिरासत में रखे गए लोगों को भी छोड़ने का फ़ैसला होगा। कुछ लोगों को पहले ही छोड़ दिया गया है। बताया गया कि कारगिल के अलावा केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के कई जिलों में अभी भी इंटरनेट सेवाएं नही शुरू की गयीं। मोबाईल इंटरनेट शुरू होने से स्थानीय लोग काफी खुश नजर आ रहे हैं।