1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. प्रदूषण पर एनजीटी सख्त: दिल्‍ली-एनसीआर में दिवाली पर नहीं छोड़ सकेंगे पटाखा, 30 नवंबर तक प्रतिबंध

प्रदूषण पर एनजीटी सख्त: दिल्‍ली-एनसीआर में दिवाली पर नहीं छोड़ सकेंगे पटाखा, 30 नवंबर तक प्रतिबंध

By शिव मौर्या 
Updated Date

Ngt Strict On Pollution Delhi Ncr Will Not Be Able To Leave Crackers On Diwali Ban Till 30 November

नई दिल्‍ली। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने दिवाली पर पटाखों को लेकर बड़ा फैसला लिया है। एनजीटी ने दिल्ली-एनसीआर में 30 नवंबर तक के लिए पटाखों पर रोक लगा दी है। एनजीटी के इस फैसले के बाद इस दिवाली पर लोग पटाखों नहीं फोड़ सकेंगे। इसके साथ ही एनजीटी ने अन्य राज्यों के लिए भी अहम व्यवस्था दी है।

पढ़ें :- कोरोना इफेक्ट : विंध्यवासिनी मंदिर के द्वार 21 अप्रैल तक श्रद्धालुओं के लिए बंद

ट्रिब्‍यूनल ने अपने अपने आदेश में कहा कि जिन राज्‍यों में वायु प्रदूषण या एयर क्‍वालिटी ठीक है, वहां 30 नवंब तक पटाखा छोड़ा जा सकता है। ट्रिब्‍यूनल ने इसके साथ ही यह भी कहा कि खराब AQI वाले शहरों में इस अवधि तक आतिशबाजी प्रतिबंधित रहेगी।

एनजीटी ने अपने आदेश में कहा कि नवंबर में जिन शहरों में एक्‍यूआई खराब या बहुत खराब की श्रेणी में होगा, वहां पटाखा छोड़ने पर पाबंदी रहेगी। इसके अलावा जिन शहरों में एक्‍यूआई ‘मॉडरेट’ है, वहां सिर्फ ग्रीन पटाखे ही छोड़े जा सकते हैं। इसके अलावा दिवाली, क्रिसमस और नववर्ष की पूर्व संध्‍या के मौके पर सिर्फ दो घंटे के लिए ग्रीन पटाखा जलाने की इजाज होगी।

ये राज्य भी पटाखे को लेकर सख्त
दिल्ली ने प्रदूषण के कारण तो राजस्थान, महाराष्ट्र जैसे राज्यों में कोरोना वायरस के कारण पटाखों पर बैन लगाने की घोषणा की है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने कि राज्य सरकार कोरोना के चलते दीपावली के दौरान पटाखों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने के आदेश जारी किया। येदियुरप्पा ने कहा कि हमने इस पर चर्चा की (पटाखा प्रतिबंध), हम दीपावली के दौरान पटाखों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने का फैसला कर रहे हैं। सरकार जल्द ही इस आशय का आदेश जारी करेगी। वहीं, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पिछले सोमवार को ट्वीट कर जानकारी थी कि उनकी सरकार ने कोविड -19 रोगियों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए और साथ ही पटाखों से निकलने वाले जहरीले धुएं से जनता को बचाने के लिए पटाखों की बिक्री और फटने पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया। राज्य सरकार के आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति से 2000 रुपये का जुर्माना लिया जाएगा।

 

पढ़ें :- मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा - दिल्ली में ऑक्सीजन और रेमडेसिविर की कमी है

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...