टेरर फंडिंग मामले में पूर्व विधायक इंजीनियर राशिद गिरफ्तार, जानिए पूरा मामला

a

जम्मू। राष्ट्रीय जांच एजेंसी एनआईए ने कश्मीर के पूर्व निर्दलीय विधायक शेख अब्दुल राशिद उर्फ इंजीनियर राशिद को टेरर फंडिंग से जुड़े मामले में शुक्रवार को गिरफ्तार किया है। एनआईए ने पिछले रविवार को इंजीनियर राशिद से टेरर फंडिंग से जुड़े केस में दिल्ली में पूछताछ की थी।

Nia Arrested Engineer Rashid In Terror Funding Case :

उत्तर कश्मीर में लंगेट विधानसभा सीट से विधायक रह चुके राशिद अपने विवादित बयानों के चलते सुर्खियों में रहते हैं। एनआईए ने राशिद से 2017 में भी उनसे पूछताछ की थी। इंजीनियर राशिद पर 2017 में भी आरोप लगे थे कि उन्होंने कश्मीर में अस्थिरता फैलाने और आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए पाकिस्तान की खुफिया आईएसआई से पैसे लिए हैं।

यह खुलासा एनआईए ने ही किया था। राशिद को ये पैसे पाकिस्तानी सेना के ब्रिगेडियरों द्वारा प्रभावशाली व्यवसायी जहूर वटाली के जरिये भेजी गई थी और इसके लिए दुबई स्थित फर्जी कंपनियों का इस्तेमाल किया गया था। फर्जी कंपनियों के जरिये ये रकम संयुक्त अरब अमीरात के बैंक में डाले गए।

राशिद अक्सर भारत के खिलाफ बयानबाजी करते रहे हैं। राशिद उस वक्त सुर्खियों में आए थे जब उन्होंने बीफ पर लगी पाबंदी के खिलाफ बीफ पार्टी का आयोजन किया था तब बीजेपी विधायकों ने उन्हें सदन में ही पीट दिया था। 2015 में जब इंजीनियर रशीद दिल्ली के प्रेस क्लब में मीडिया से बात कर थे तो उनके मुंह पर हिंदू सेना के कार्यकर्ताओं ने स्याही फेंक दी थी।

जम्मू। राष्ट्रीय जांच एजेंसी एनआईए ने कश्मीर के पूर्व निर्दलीय विधायक शेख अब्दुल राशिद उर्फ इंजीनियर राशिद को टेरर फंडिंग से जुड़े मामले में शुक्रवार को गिरफ्तार किया है। एनआईए ने पिछले रविवार को इंजीनियर राशिद से टेरर फंडिंग से जुड़े केस में दिल्ली में पूछताछ की थी। उत्तर कश्मीर में लंगेट विधानसभा सीट से विधायक रह चुके राशिद अपने विवादित बयानों के चलते सुर्खियों में रहते हैं। एनआईए ने राशिद से 2017 में भी उनसे पूछताछ की थी। इंजीनियर राशिद पर 2017 में भी आरोप लगे थे कि उन्होंने कश्मीर में अस्थिरता फैलाने और आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए पाकिस्तान की खुफिया आईएसआई से पैसे लिए हैं। यह खुलासा एनआईए ने ही किया था। राशिद को ये पैसे पाकिस्तानी सेना के ब्रिगेडियरों द्वारा प्रभावशाली व्यवसायी जहूर वटाली के जरिये भेजी गई थी और इसके लिए दुबई स्थित फर्जी कंपनियों का इस्तेमाल किया गया था। फर्जी कंपनियों के जरिये ये रकम संयुक्त अरब अमीरात के बैंक में डाले गए। राशिद अक्सर भारत के खिलाफ बयानबाजी करते रहे हैं। राशिद उस वक्त सुर्खियों में आए थे जब उन्होंने बीफ पर लगी पाबंदी के खिलाफ बीफ पार्टी का आयोजन किया था तब बीजेपी विधायकों ने उन्हें सदन में ही पीट दिया था। 2015 में जब इंजीनियर रशीद दिल्ली के प्रेस क्लब में मीडिया से बात कर थे तो उनके मुंह पर हिंदू सेना के कार्यकर्ताओं ने स्याही फेंक दी थी।