पटना: बोधगया मंदिर में विस्फोट के आरोपियों को मिली उम्रकैद की सजा

पटना। बोधगया के महाबोधि मंदिर परिसर में वर्ष 2013 में हुए सिलसिलेवार विस्फोट के मामले में दोषी पाए गए चार लोगों को एनआईए कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुना दी। ये चारों आरोपी इंडियन मुजाहिदीन से सम्बंधित है। इस आतंकी हमले की कोर्ट में करीब पांच साल में सुनवाई पूरी हो गई। वही सजा मिलने के बाद के बाद आरोपितो के वकील ने हाईकोर्ट जाने की बात कही है।
बता दें कि एनआईए कोर्ट ने UAPA कानून की 4 धाराओं के तहत आजीवन कारावास की सजा दी गई है। एनआईए कोर्ट की विशेष न्यायाधीश मनोज कुमार सिन्हा ने 25 मई को आंतकी मानते हैदर अली उर्फ ब्लैक ब्यूटी, अजहरुउद्दीन ,उमर सिद्दकी, इम्तियाज अंसारी और मुजीबुल्लाह को दोषी करार दिया था। 7 जुलाई 2013 को बोधगया में हुए नौ धमाकों में छह आरोपियों के खिलाफ एनआईए कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की गई थी।

Nia Court Verdict After5 Years On Bodhgaya Serial Blast :

बता दें कि बोधगया ब्लास्ट में एनआईए ने 90 गवाहों को पेश किया। विशेष न्यायाधीश ने 11 मई 2018 को दोनों पक्षों की ओर से बहस पूरी होने के बाद अपना निर्णय 25 मई तक के लिए सुरक्षित रख लिया था। इस हमले का मास्टरमाइंड हैदर अली उर्फब्लैक ब्यूटी था। आरोपितों मे कुछ रांची के रहने वाले हैं और कुछ छत्तीसगढ़ के रायपुर के रहने वाले हैं। ये सभी पटना के बेउर जेल में बंद है।

पटना। बोधगया के महाबोधि मंदिर परिसर में वर्ष 2013 में हुए सिलसिलेवार विस्फोट के मामले में दोषी पाए गए चार लोगों को एनआईए कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुना दी। ये चारों आरोपी इंडियन मुजाहिदीन से सम्बंधित है। इस आतंकी हमले की कोर्ट में करीब पांच साल में सुनवाई पूरी हो गई। वही सजा मिलने के बाद के बाद आरोपितो के वकील ने हाईकोर्ट जाने की बात कही है। बता दें कि एनआईए कोर्ट ने UAPA कानून की 4 धाराओं के तहत आजीवन कारावास की सजा दी गई है। एनआईए कोर्ट की विशेष न्यायाधीश मनोज कुमार सिन्हा ने 25 मई को आंतकी मानते हैदर अली उर्फ ब्लैक ब्यूटी, अजहरुउद्दीन ,उमर सिद्दकी, इम्तियाज अंसारी और मुजीबुल्लाह को दोषी करार दिया था। 7 जुलाई 2013 को बोधगया में हुए नौ धमाकों में छह आरोपियों के खिलाफ एनआईए कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की गई थी। बता दें कि बोधगया ब्लास्ट में एनआईए ने 90 गवाहों को पेश किया। विशेष न्यायाधीश ने 11 मई 2018 को दोनों पक्षों की ओर से बहस पूरी होने के बाद अपना निर्णय 25 मई तक के लिए सुरक्षित रख लिया था। इस हमले का मास्टरमाइंड हैदर अली उर्फब्लैक ब्यूटी था। आरोपितों मे कुछ रांची के रहने वाले हैं और कुछ छत्तीसगढ़ के रायपुर के रहने वाले हैं। ये सभी पटना के बेउर जेल में बंद है।