कश्मीर में टेरर फंडिंग को लेकर जहूर वटाली के 12 ठिकानों पर एनआईए का छापा

कश्मीर घाटी के अलगाववादी नेताआें कों होने वाली टेरर फंडिंग के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने बुधवार को बड़ी कार्रवार्इ को अंजाम दिया है। एनआर्इए के अधिकारियों ने कई टीमें बनाकर कश्मीर के कारोबारी जहूर वटाली के करीब 12 ठिकानों पर छापेमारी को अजाम दिया है। यह छापेमारी श्रीनगर, हंदवाड़ा, बारामूला में रहने वाले वटाली के करीबियों के घरों और ठिकानों पर की जा रही है।

सूत्रों की माने तो जहूर वटाली के कुछ ठिकानों पर एनआईए ने पहले ही छापेमारी की थी। इस दौरान एनआईए ने कुछ दस्तावेज भी जब्त किए थे। इन दस्तावेजों और हिरासत में लिए गए अलगाववादी नेताओं से 20 दिनों तक चली पूछताछ में सामने आई जानकारी को आधार बनाकर एनआईए ने वटाली के ठिकानों पर छापेमारी की है। इनमें कई ठिकाने वटाली के विश्वासपात्र नौकरों के घर और रिश्तेदारों के मकान बताए जा रहे है। टेरर फंडिंग को लेकर जांच अधिकारियों के हाथ कई अन्य अहम जान​कारियां भी लगीं हैं। जिनके आधार पर एनआईए जल्द कई एक्शन लेती नजर आ सकती है।

{ यह भी पढ़ें:- जेल में सब्जियां उगा रहा 'बलात्कारी बाबा', 20 रुपये मिलती है दिहाड़ी }

जहूर वटाली कंपनियों की आड़ में करता है टेरर फंडिंग —

जहूर वटाली की पहचान अंतर्राष्ट्रीय कारोबारी के रूप में है। भारत में श्रीनगर, दिल्ली, चंडीगढ़, गुडगांव और मुंबई समेंत कई शहरों में उसकी अलग अलग कंपनियों के आॅफिस और बंगले है। उसका कारोबार यूरोप और यूएई तक फैला हुआ है। दुबई जैसे शहर में वटाली के पास अरबों की संपत्ति बताई जा रही है, जो उसने अपने और रिश्तेदारों के नाम पर ले रखी है। एनआईए ने 3 जून को वटाली के ठिकानों पर की छापेमारी में बड़ी मात्रा में पाकिस्तानी करेंसी बरामद की थी।जहूर वटाली और कश्मीर के अलगाववादी नेताओं के बीच मजबूत कनेक्शन बताए जाते हैं।

{ यह भी पढ़ें:- सेना के जवान को थप्पड़ मारने वाली महिला अरेस्ट }

ध्यान हो कि कश्मीर में टेरर फंडिंग को लेकर कुल 7 अलगाववादी नेताओं को पिछले महीने एनआईए की टीम ने गिरफ्तार किया था। 4 अगस्त को एनआईए ने से तीन नेताओं की न्यायिक हिरासत बढ़ाने की अपील की थी, जिसे अदालत ने स्वीकार करते हुए 30 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। NIA ने अदालत के सामने अपना पक्ष रखते हुए कहा था कि इन नेताओं की गिरफ्तारी के बाद से कश्मीर में पत्थरबाजी जैसी घटनाओं में कमी आयी है।