जम्मू- कश्मीर के इन दो बड़े अलगाववादी नेताओं को आमने-सामने बैठाकर NIA करेगी पूछताछ

jammu kashmir
जम्मू- कश्मीर के इन दो बड़े अलगाववादी नेताओं को आमने-सामने बैठाकर NIA करेगी पूछताछ

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के नेता यासीन मलिक को बुधवार को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया। जिसके बाद कोर्ट ने उसे 22 अप्रैल तक के लिए एनआईए की हिरासत में भेज दिया गया।

Nia Will Interrogate These Two Big Separatist Leaders In Jammu And Kashmir :

अब आशंका जताई जा रही है कि एनआईए यासीन मलिक और मीरवाइज उमर फारुक को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ करेगी। बता दें कि मलिक को टेरर फंडिंग केस में बुधवार को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया।

बताया जा रहा है कि सुरक्षा कारणों से मलिक को तिहाड़ जेल में भेजा गया है। यासीन मलिक पर जम्मू-कश्मीर में आतंकी संगठनों और अलगाववादियों को फंड देने का आरोप है इससे जुड़े केस में फिलहाल वह सलाखों के पीछे है। उसे पिछले माह ही गिरफ्तार किया गया था।

उससे बुधवार को एनआईए टेरर फंडिंग केस में पूछताछ करेगी। मलिक के खिलाफ सीबीआई ने भी जम्मू कश्मीर हाई कोर्ट में अर्जी डाली है और उसे तकरीबन तीन दशक पुराने मामलों में आरोपित किया है। हाईकोर्ट ने सीबीआई की अर्जी पर फिलहाल अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है।

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के नेता यासीन मलिक को बुधवार को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया। जिसके बाद कोर्ट ने उसे 22 अप्रैल तक के लिए एनआईए की हिरासत में भेज दिया गया।

अब आशंका जताई जा रही है कि एनआईए यासीन मलिक और मीरवाइज उमर फारुक को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ करेगी। बता दें कि मलिक को टेरर फंडिंग केस में बुधवार को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया।

बताया जा रहा है कि सुरक्षा कारणों से मलिक को तिहाड़ जेल में भेजा गया है। यासीन मलिक पर जम्मू-कश्मीर में आतंकी संगठनों और अलगाववादियों को फंड देने का आरोप है इससे जुड़े केस में फिलहाल वह सलाखों के पीछे है। उसे पिछले माह ही गिरफ्तार किया गया था।

उससे बुधवार को एनआईए टेरर फंडिंग केस में पूछताछ करेगी। मलिक के खिलाफ सीबीआई ने भी जम्मू कश्मीर हाई कोर्ट में अर्जी डाली है और उसे तकरीबन तीन दशक पुराने मामलों में आरोपित किया है। हाईकोर्ट ने सीबीआई की अर्जी पर फिलहाल अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है।