निजी स्कूलों की मनमानी फीस वसूली पर योगी सरकार सख्त, यहां करें शिकायत

लखनऊ। निजी स्कूलों पर मनमानी फीस वसूलने के लिये सिटीजन चार्टर लागू हो गया है। इसके लागू होने के बाद से ही अभिभावक कई स्कूलों की मनमानी फीस वसूली की शिकायतें लगातार कर रहे थे। जिला विद्यालय निरीक्षक(डीआईओएस) उमेश त्रिपाठी ने तत्काल प्रभाव से इसले लिये 25 टीमों का गठन भी कर दिया है। डीआईओएस ने कहा कि जो भी स्कूल सिटीजन चार्टर का पालन नहीं करेंगे, उनके खिलाफ तत्काल एफ़आईआर दर्ज कराई जाएगी।




शिक्षा भवन में प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान डीआईओएस उमेश त्रिपाठी ने कहा कि शहर के स्कूलों में ली जा रही फीस की जांच करने के लिए टीमें बना दी गई हैं। स्कूलों को बताना होगा कि वे इतनी फीस क्यों ले रहे हैं। स्पष्टीकरण न दे पाने पर स्कूल के खिलाफ एफआईआर करवाई जाएगी।


क्या है सिटीजन चार्टर—

इसके तहत बच्चों को यूनिफार्म, कॉपी-किताब बांटने, कॉलेजों में लैबोरेट्री आदि बनाने, स्कूलों का विद्युतीकरण करने के साथ ही नकल के खिलाफ और सरकारी टीचरों द्वारा कोचिंग चलाने के मामलों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं।


कितानों और अन्य खर्चों की मनमानी नहीं चलेगी–

डीआईओएस उमेश त्रिपाठी ने सोमवार को लखनऊ के दो प्राईवेट स्कूल में छापेमारी करते हुए किताबों की दुकानें सील की। बताया जा रहा है कि इन दुकानों को स्कूल की मनमर्जी के हिसाब से संचालित किया जा रहा था। डीआईओएस ने कहा, निजी प्रकाशकों की किताबें जो स्कूल द्वारा तय दुकानों मे मिलती है, उस पर रोक लगेगी। अब केवल एनसीईआरटी की किताबें चलेगी, अभिभावक जहां से चाहे वहां से खरीद सकते हैं।


बच्चे की फीस के बारे में जान सकते हैं अभिभावक–

डीआईओएस ने कहा कि अगर कोई अभिभावक अपने बच्चे की फीस के बारे में पूछता है तो स्कूल को यह बताना होगा कि बच्चे को कितने टीचर पढ़ाते हैं। उन टीचरों की सैलरी कितनी है। बच्चे की क्लास में कुल कितने स्टूडेंट्स हैं। स्कूल में कुल कितनी क्लास चल रही हैं ताकि औसत मेंटनेंस भी पता चले। इस फीस में ट्यूशन फीस और बच्चों को स्कूल में मिलने वाली अन्य सभी सुविधाओं का खर्च शामिल है। अगर स्कूल इससे ज्यादा फीस ले रहा है तो पैरंट्स शिकायत करें।

यहां करें शिकायत—

लखनऊ स्थित सिटी स्टेशन के पास डीआईओएस ऑफिस में फीस व अन्य मामलों की शिकायत सुनने के लिए दो काउंटर बनाए गए हैं, जो पूरे दिन खुलेंगे। सुबह 10 से 12 बजे तक लोगों की शिकायतें डीआईओएस या सहायक डीआईओएस सुनेंगे।

Capture 1