सोनौली बार्डर के पास प्रवासी मजदूर को हुई बेटी, नाम रखा निरंजना देवी

IMG-20200611-WA0009

सोनौली । विदेश मंत्रालय की पहल पर नेपाल से भारत पहुंचे एक प्रवासी मजदूर की पत्नी ने एक होटल परिसर में बेटी को जन्म दिया। इसके बाद महिला को एंबुलेंस से नौतनवा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भेज दिया गया। वहीं, जिस होटल निरंजना के परिसर में जन्म लेने वाली नवजात का नाम भी लोगों ने निरंजना देवी रख दिया।

Niranjana Devi Named Daughter Of Migrant Laborer Near Sonauli Border :

पिछले 26 मई से हर रोज नेपाल में फंसे भारतीय नागरिक सोनौली के रास्ते आ रहे हैं। बुधवार को भी भारतीय नागरिकों का जत्था इमीग्रेशन में एंट्री कराने के बाद सोनौली पहुंचा। इमीग्रेशन कार्यालय के सामने होटल निरंजना के मैदान में नेपाल से लौटे लखीमपुर खीरी के परासी सांडा चौक ईंट भट्ठा निवासी दिनेश व उसकी पत्नी कुसुमा देवी भी पहुंचे। इसी दौरान कुसुमा देवी को प्रसव पीड़ा शुरू हुई और वहीं उसने एक बेटी को जन्म दिया। प्रेमलता स्टाफ नर्स प्रेमलता ने बताया कि जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ हैं।

इससे पहले नो मेंस लैंड पर एक महिला बच्चे को दे चुकी है जन्म

बीते 30 मई को नेपाल से भारत आने के लिए नो मेंस लैंड पर प्रवासी कामगार अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे। इसी दौरान बहराइच जिले के छाला पृथ्वीपुरवा निवासी लालाराम की पत्नी जामतारा ने बार्डर पर ही एक बेटे को जन्म दिया था। इस दंपति ने अपने बेटे का नाम बार्डर रख दिया था।

जसधीर सिंह, एसडीएम-नौतनवा ने बताया लखीमपुर खीरी के परासी सांडा चौक ईंट भट्ठा निवासी दिनेश की पत्नी कुसुमा देवी को होटल निरंजना के सामने मैदान में एक बच्ची पैदा हुई। जच्चा-बच्चा को नौतनवा सीएचसी में भर्ती कराया गया है। दोनों स्वस्थ हैं

सोनौली । विदेश मंत्रालय की पहल पर नेपाल से भारत पहुंचे एक प्रवासी मजदूर की पत्नी ने एक होटल परिसर में बेटी को जन्म दिया। इसके बाद महिला को एंबुलेंस से नौतनवा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भेज दिया गया। वहीं, जिस होटल निरंजना के परिसर में जन्म लेने वाली नवजात का नाम भी लोगों ने निरंजना देवी रख दिया। पिछले 26 मई से हर रोज नेपाल में फंसे भारतीय नागरिक सोनौली के रास्ते आ रहे हैं। बुधवार को भी भारतीय नागरिकों का जत्था इमीग्रेशन में एंट्री कराने के बाद सोनौली पहुंचा। इमीग्रेशन कार्यालय के सामने होटल निरंजना के मैदान में नेपाल से लौटे लखीमपुर खीरी के परासी सांडा चौक ईंट भट्ठा निवासी दिनेश व उसकी पत्नी कुसुमा देवी भी पहुंचे। इसी दौरान कुसुमा देवी को प्रसव पीड़ा शुरू हुई और वहीं उसने एक बेटी को जन्म दिया। प्रेमलता स्टाफ नर्स प्रेमलता ने बताया कि जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ हैं।
इससे पहले नो मेंस लैंड पर एक महिला बच्चे को दे चुकी है जन्म बीते 30 मई को नेपाल से भारत आने के लिए नो मेंस लैंड पर प्रवासी कामगार अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे। इसी दौरान बहराइच जिले के छाला पृथ्वीपुरवा निवासी लालाराम की पत्नी जामतारा ने बार्डर पर ही एक बेटे को जन्म दिया था। इस दंपति ने अपने बेटे का नाम बार्डर रख दिया था। जसधीर सिंह, एसडीएम-नौतनवा ने बताया लखीमपुर खीरी के परासी सांडा चौक ईंट भट्ठा निवासी दिनेश की पत्नी कुसुमा देवी को होटल निरंजना के सामने मैदान में एक बच्ची पैदा हुई। जच्चा-बच्चा को नौतनवा सीएचसी में भर्ती कराया गया है। दोनों स्वस्थ हैं