नीरव मोदी भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित, पीएनबी बैंक घोटाले का है आरोपी, संपत्तियां होंगी जब्त

Nirav Modi

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक घोटाले मामले में नीरव मोदी को भगोड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम के तहत एक भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित कर दिया गया है। वहीं, इसके बाद नीरव मोदी की संपत्तियों को जब्त करने का आदेश बाद में दिया जाएगा। वहीं, इससे पहले विशेष सीबीआई कोर्ट ने बुधवार को पीएनबी बैंक घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी और दो अन्य के खिलाफ मुनादी आदेश जारी किया था।

Nirav Modi Declared Fugitive Economic Criminal Accused In Pnb Bank Scam :

साथ ही इन आरोपियों को 15 जनवरी को पेश होने का आदेश दिया था। ऐसा नहीं करने पर ही कोर्ट ने नीरव समेत अन्य आरोपियों को भगोड़ा अपराधी घोषित किया है। बता दें कि, विशेष जज वीसी बोर्डे पेश होने का आदेश नीरव, उसके भाई नीशाल मोदी और करीबी सहयोगी सुभाष परब के खिलाफ जारी किया।

कानून के मुताबिक, मुनादी आदेश जारी करने पर आरोपियों को समयसीमा के अंदर पेश होना जरूरी होता है। अगर अपराधी ऐसा नहीं करते हैं तो उन्हें भगोड़ा अपराधी घोषित किया जा सकता है। ऐसा होने पर जांच एजेंसी देश में मौजूद उसकी संपत्ति को जब्त करने की कार्रवाई शुरू कर सकती है।

गौरतलब है कि पीएनबी घोटाले में नीरव और मेहुल चौकसी मुख्य आरोपी हैं। नीरव इन दिनों लंदन की जेल में बंद है और उसके प्रत्यर्पण का मामला लंबित है। वहीं नीशाल व परब कहां हैं, इसकी जानकारी नहीं है।

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक घोटाले मामले में नीरव मोदी को भगोड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम के तहत एक भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित कर दिया गया है। वहीं, इसके बाद नीरव मोदी की संपत्तियों को जब्त करने का आदेश बाद में दिया जाएगा। वहीं, इससे पहले विशेष सीबीआई कोर्ट ने बुधवार को पीएनबी बैंक घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी और दो अन्य के खिलाफ मुनादी आदेश जारी किया था। साथ ही इन आरोपियों को 15 जनवरी को पेश होने का आदेश दिया था। ऐसा नहीं करने पर ही कोर्ट ने नीरव समेत अन्य आरोपियों को भगोड़ा अपराधी घोषित किया है। बता दें कि, विशेष जज वीसी बोर्डे पेश होने का आदेश नीरव, उसके भाई नीशाल मोदी और करीबी सहयोगी सुभाष परब के खिलाफ जारी किया। कानून के मुताबिक, मुनादी आदेश जारी करने पर आरोपियों को समयसीमा के अंदर पेश होना जरूरी होता है। अगर अपराधी ऐसा नहीं करते हैं तो उन्हें भगोड़ा अपराधी घोषित किया जा सकता है। ऐसा होने पर जांच एजेंसी देश में मौजूद उसकी संपत्ति को जब्त करने की कार्रवाई शुरू कर सकती है। गौरतलब है कि पीएनबी घोटाले में नीरव और मेहुल चौकसी मुख्य आरोपी हैं। नीरव इन दिनों लंदन की जेल में बंद है और उसके प्रत्यर्पण का मामला लंबित है। वहीं नीशाल व परब कहां हैं, इसकी जानकारी नहीं है।