निर्भया केस: दीवार पर सिर मारकर चोटिल हुआ दोषी विनय, फांसी से बचने के लिए अपना रहे हैं हथकंडे

Nirbhaya Case
निर्भया केस: चारों शवों का पोस्टमॉर्टम शुरू,परिजनों ने अस्पताल से बनायी दूरी

नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप मामले के दोषी फांसी से बचने के लिए हर कोशिश कर रहे हैं। कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी किया है। इसके लिए 3 मार्च का दिन तय हुआ है। ऐसे में अब दोषियों के पास कोई विकल्प नहीं बचा है, जिसके कारण वह फांसी से बचने के लिए हर तरह के हथकंडे अपनाने पर जुटे हैं।

Nirbhaya Case Convicted Vinay Beheaded On The Wall Hanged On March 3 :

ऐसे में दोषी विनय ने दीवार पर सिर मारकर चोटिल हो गया है। तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने बताया कि 2012 के दिल्ली गैंगरेप मामले में दोषी विनय कुमार ने खुद को चोटिल पहुंचाने की कोशिश की थी। विनय कुमार ने खुद का सिर दीवार पर दे मारा। 16 फरवरी को हुई इस घटना में विनय को कुछ हल्की चोटें भी आई हैं।

सूत्रों ने बताया कि इस मामले में वकील एपी सिंह का कहना है कि नया डेथ वारंट जारी होने के बाद विनय की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। उसने अपनी मां को भी पहचानने से इंकार कर दिया है। वहीं, जेल के अधिकारियों का कहना है कि विनय की हालत ठीक है। बताया जा रहा है कि फांसी की सजा पाए दोषी कई बार हिंसक बर्ताव पर उतर जाते हैं।

ऐसे में अगर दोषी को चोट पहुंचती है तो फांसी को कुछ वक्त के लिए और टाला जा सकता है। बता दें कि, निर्भया केस के दोषियों  मुकेश कुमार सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय कुमार शर्मा (26) और अक्षय कुमार (31) को तीन मार्च को सुबह छह बजे फांसी देने का समय ​कोर्ट ने तय किया है।

नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप मामले के दोषी फांसी से बचने के लिए हर कोशिश कर रहे हैं। कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी किया है। इसके लिए 3 मार्च का दिन तय हुआ है। ऐसे में अब दोषियों के पास कोई विकल्प नहीं बचा है, जिसके कारण वह फांसी से बचने के लिए हर तरह के हथकंडे अपनाने पर जुटे हैं। ऐसे में दोषी विनय ने दीवार पर सिर मारकर चोटिल हो गया है। तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने बताया कि 2012 के दिल्ली गैंगरेप मामले में दोषी विनय कुमार ने खुद को चोटिल पहुंचाने की कोशिश की थी। विनय कुमार ने खुद का सिर दीवार पर दे मारा। 16 फरवरी को हुई इस घटना में विनय को कुछ हल्की चोटें भी आई हैं। सूत्रों ने बताया कि इस मामले में वकील एपी सिंह का कहना है कि नया डेथ वारंट जारी होने के बाद विनय की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। उसने अपनी मां को भी पहचानने से इंकार कर दिया है। वहीं, जेल के अधिकारियों का कहना है कि विनय की हालत ठीक है। बताया जा रहा है कि फांसी की सजा पाए दोषी कई बार हिंसक बर्ताव पर उतर जाते हैं। ऐसे में अगर दोषी को चोट पहुंचती है तो फांसी को कुछ वक्त के लिए और टाला जा सकता है। बता दें कि, निर्भया केस के दोषियों  मुकेश कुमार सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय कुमार शर्मा (26) और अक्षय कुमार (31) को तीन मार्च को सुबह छह बजे फांसी देने का समय ​कोर्ट ने तय किया है।