1. हिन्दी समाचार
  2. निर्भया केस: दोषी विनय की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने की खारिज, फांसी का रास्ता साफ

निर्भया केस: दोषी विनय की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने की खारिज, फांसी का रास्ता साफ

नई दिल्ली। देश के चर्चित निर्भया केस में चार दोषियों को काफी पहले ही फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है लेकिन लगातार कानून दांव पेंच का खेल खेलते हुए दोषी सजा से बचते चले जा रहे हैं। हाल ही में दोषी विनय ने सुप्रीम कोर्ट में दया याचिका को चैलेंज दिया था जिसकी आज सुनवाई थी। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में याचिका खारिज कर दी। ऐसे में अब चारों दोषियों की फांसी का रास्ता साफ होता नजर आ रहा है।

पढ़ें :- बिहार चुनाव: जेडीयू में इस तरह से मिल रहा है टिकट, पहले चरण के प्रत्याशियों पर मंथन

आपको बता दें कि राष्ट्रपति ने विनय की दया याचिका खारिज कर दी थी, जिसके बाद विनय ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चैलेंज किया था। विनय ने अपनी याचिका में कहा है कि जेल में ‘कथित यातनाओं और दुर्व्यवहार की वजह से वह मानसिक रूप से अस्वस्थ हो गया है। केंद्र और दिल्ली सरकार की ओर से सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने अधिवक्ता एके सिंह की दलीलों का विरोध करते हुए विनय शर्मा की 12 फरवरी की मेडिकल रिपोर्ट पीठ के समक्ष पेश की, जिसके मुताबिक विनय पूरी तरह स्वस्थ है। वहीं एके सिंह का आरोप था कि दिल्ली के उपराज्यपाल और गृह मंत्री ने उसकी दया याचिका खारिज करने की सिफारिश पर दस्तखत नहीं किए थे। लेकिन पीठ ने इसे खारिज कर दिया।

गौरतलब है कि दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 को निर्भया के साथ छह दरिंदों ने चलती बस में गैंगरेप किया था। छह में से एक दोषी नाबालिग था जिसे बाल सुधार गृह भेजा गया था जो कि अब छूट चुका है और कहीं गुमनामी की जिंदगी बिता रहा है। बाकी बचे पांचो दोषियों को इस मामले में फांसी की सजा सुनाई गयी थी। लेकिन एक आरोपी रामसिंह ने तिहाड़ जेल में ही आत्महत्या कर ली थी। अब घटना के सात साल बाद बाकी बचे चार दोषियों मुकेश, पवन, विनय और अक्षय को जल्द ही फांसी की सजा होनी है।

आपको बता दें कि आरोपियों ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका भी दायर की थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने याचिका खारिज कर दी। सभी आरोपयों ने सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट और पटियाला हाउस कोर्ट में तमाम याचिकाएं डाली जिसे कोर्ट ने हर बार खारिज कर दिया। वहीं दो बार पटियाला हाउस कोर्ट ने डेथ वारेंट जारी किया लेकिन दोनो बारी दोषियों की याचिकाओं के चलते डेथ वारेंट रद्द कर दिया गया। अब जब दोषियों के पास ज्यादा कोई विकल्प नही बचा है तो देखने वाली बात होगी कि अगला डेथ वारेंट कब जारी किया जायेगा।

पढ़ें :- चीन और पाक पर पीएम मोदी ने साधा निशाना, कहा-भारत दुनिया को अपना परिवार मानता है

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...