निर्मोही अखाड़े का आरोप: VHP ने राम मंदिर के नाम पर 1400 करोड़ का घोटाला किया

ram-mandir
प्रवीण तोगडिया ने बढ़ाई संघ की परेशानी, राम मंदिर पर लिया ये फैसला

Nirmohi Akhara Accuses Vhp Of Rs 1400 Crore Scam On The Name Of Ram Mandir

नई दिल्ली। राम मंदिर मुद्दे को लेकर उत्तर प्रदेश में सियासत काफी तेज हो गयी है। इस मुद्दे पर चंदे को लेकर निर्मोही अखाड़े ने सनसनीखेज खुलासा किया है। निर्मोही अखाड़े ने विश्व हिन्दू परिषद(वीएचपी) पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा, वीएचपी ने राम मंदिर के नाम पर 1400 करोड़ रुपये का घोटाला किया है। वहीं वीएचपी ने इन आरोपों को बेबुनियाद और निराधार बताया है।

निर्मोही अखाड़े के संत सीताराम ने कहा, जितने फर्जी न्यास बने हैं वो मुसलमानों को मजबूत करना चाहते हैं। अगर वहां मस्जिद थी तो वहां मीनार क्यों नहीं थी और वहां नमाज क्यों नहीं पढ़ी जाती थी। निर्मोही अखाड़े की ओर से महंत दीनेंद्र दास ने कहा कि रामलला वहां हमेशा थे, रामलला वहीं रहेंगे ना कि मस्जिद रहेगी। 1935 से निर्मोही अखाड़ा वहां पूजा पाठ कर रहा है।

संत सीताराम ने कहा कि 1400 करोड़ रुपया खा गए ये लोग, हम लोग राम जी के पुत्र हैं, सेवक हैं, हमें पैसे की पेशकश नहीं हुई कभी भी। पैसे खाकर बैठे हैं नेता लोग। इसके बाद सीताराम ने बिल्कुल साफ कहा कि विश्व हिन्दू परिषद ने घर-घर घूम कर एक-एक ईंट मांगी, पैसा जमा किया और फिर इस पैसे को खा गए।

वहीं विश्व हिंदू परिषद की तरफ से इन आरोपों का खंडन करते हुए विनोद बंसल ने कहा, राम मंदिर के लिए वीएचपी ने कभी किसी से एक पैसा नहीं लिया। 1964 से वीएचपी आस्तित्व में आई है और हर साल ऑडिट होता है। हमारे पास एक-एक पैसे का हिसाब है।

नई दिल्ली। राम मंदिर मुद्दे को लेकर उत्तर प्रदेश में सियासत काफी तेज हो गयी है। इस मुद्दे पर चंदे को लेकर निर्मोही अखाड़े ने सनसनीखेज खुलासा किया है। निर्मोही अखाड़े ने विश्व हिन्दू परिषद(वीएचपी) पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा, वीएचपी ने राम मंदिर के नाम पर 1400 करोड़ रुपये का घोटाला किया है। वहीं वीएचपी ने इन आरोपों को बेबुनियाद और निराधार बताया है। निर्मोही अखाड़े के संत सीताराम ने कहा, जितने फर्जी न्यास बने हैं वो मुसलमानों…