नीति आयोग ने थपथपाई योगी सरकार की पीठ

नीति आयोग ने थपथपाई योगी सरकार की पीठ

लखनऊ । नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने एक प्रतिनिधि मंडल के साथ गुरुवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर प्रदेश की विकास योजनाओं का जायजा लिया। इस दौरान प्रदेश सरकार के नौ विभागों के प्रमुख सचिवों ने प्रतिनिधि मंडल के समक्ष सात माह मे हुए कार्यों का प्रजेन्टेशन देकर जारी योजनाओं के बारे में जानकारी साझा की। आयोग के उपाध्यक्ष ने योगी सरकार के द्वारा प्रदेश के विकास के लिए किए जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि यूपी सरकार जिस तरह से एक टीम की तरह काम कर रही है वह कम ही देखने को मिलती है।

बैठक के बाद आयोजित की गई पत्रकार वार्ता में आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने योगी सरकार की जमकर सराहना की। उन्होंने कहा कि पिछले सात महीने में आयोग के प्रतिनिधिमंडल का यह दूसरा दौरा है। सरकार के कामकाज से हम संतुष्ट है। सरकार जिस तरह से काम कर रही है, उससे हम कह सकते हैं कि उप्र विकास के पथ पर चल पड़ा है।

{ यह भी पढ़ें:- योगी सरकार की बड़ी उपलब्धी, अंग्रेजी वर्णमाला में छाप डाले 31 अक्षर }

राजीव ने कहा, “सरकार के साथ बैठकर हमने उप्र के नौ क्षेत्रों में विकास की योजनाओं पर चर्चा की है। कुछ कमिया हैं, जो जल्द ही दूर की जाएंगी। हर राज्य की परिस्थतियां अलग होती हैं। हमारा प्रयास है कि सबके साथ कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ा जाए।”

उन्होंने कहा, “उप्र के विकास के बिना देश का विकास नहीं हो सकता, इसीलिए उप्र हमारी प्राथमिकता में सबसे ऊपर है।”

{ यह भी पढ़ें:- निर्मोही अखाड़े का आरोप: VHP ने राम मंदिर के नाम पर 1400 करोड़ का घोटाला किया }

यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ ने कहा कि दूसरी बार नीति आयोग ने यूपी में बैठक की है। प्रदेश के विकास को लेकर प्रधानमंत्री भी काफी संजीदा हैं। बैठक में प्रमुख रूप से आठ समूह बनाए गए हैं, जिसमें 9वें सदस्य के रूप में शहरी विकास को राज्य सरकार ने जोड़ लिया है। शहरी विकास को इसमें जोड़ना भी जरूरी था।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, “अब एक टीम बन गई है और मैं कह सकता हूं कि यूपी अब चल पड़ा है। समूह की तिमाही समीक्षा होगी। नीति आयोग उसमे चौथे सहभागी के रूप में शमिल रहेगा। जनवरी तक सभी तैयारी पूरी कर लेंगे और उसमें पीएम मोदी भी मौजूद रहेंगे।”

{ यह भी पढ़ें:- 'शराब के शौकीनों' के लिए सहालग बन आए 'चुनाव', प्रशासन की पैनी नजर }

Loading...