PM मोदी को गालियों के मुद्दे पर बोले नितिन, कहा- ’56 गालियां 56 भोग के समान’

nitin
PM मोदी को गालियों के मुद्दे पर बोले नितिन, कहा- '56 गालियां 56 भोग के समान'

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर विपक्ष पर निशाना साधा है। गडकरी ने कहा कि पीएम मोदी को कांग्रेस की तरफ से अब तक 56 गालियां दी गई हैं, लेकिन ये हमारे लिए 56 भोग की तरह हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री किसी पार्टी के नहीं बल्कि देश के होते हैं। दुर्भाग्यवश प्रधानमंत्री के मान सम्मान की बजाय विपक्ष और खास तौर से कांग्रेस के द्वारा उन पर अभद्र टिप्पणियां की गई।

Nitin Gadkari On The Indecent Remarks Of Congress On Pm Modi :

विपक्ष का अभद्र टिप्पणी करना दुर्भाग्यवश

नितिन गडकरी ने कहा, दुर्भाग्यवश प्रधानमंत्री के मान सम्मान की बजाय विपक्ष और खास तौर से कांग्रेस द्वारा की उन पर अभद्र टिप्पणियां की गई. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर गलती से नहीं बल्कि जान बूझकर अभद्र टिप्पणी की.

विकास से डर के कांग्रेस गंदी-गंदी टिप्पणियां करने लगी है

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा “पर्फॉरमेंस और कार्य चुनाव का मुद्दा न बने, इसके लिए विपक्ष दो बातों पर चुनाव को लेकर गया। पहला दलितों, अल्पसंख्यकों, एससी-एसटी के मन में डर पैदा करना और दूसरा विकास के जो काम 50 साल में नहीं हुए और 5 साल में हुए, उस पर चर्चा न करके जानबूझकर गंदी-गंदी टिप्पणियां करना। जिसमें राहुल जी को तो सुप्रीम कोर्ट में अपने ब्यान के बारे में जिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ा वो सबको पता है।

उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि जो 1984 के दंगा पीड़ितों को न्याय नहीं दे पाए वो देश के गरीबों को क्या न्याय देंगे। जिन लोगों पर अत्याचार और अन्याय हुआ उनको न्याय नहीं दे पाए, वो क्या देश के गरीबों को न्याय देंगे।

राहुल पर हमलावर होते हुए उन्होंने कहा ” इनकी पीढ़ियां गरीबी हटाओ की बात करती रही, लेकिन गरीबी हटी नहीं”। अब राहुल जी भी वही बात कह रहे हैं, तो इनकी विश्वनियता कहां हैं? ये न्याय नहीं है, आज तक हुए अन्याय की बात है।

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर विपक्ष पर निशाना साधा है। गडकरी ने कहा कि पीएम मोदी को कांग्रेस की तरफ से अब तक 56 गालियां दी गई हैं, लेकिन ये हमारे लिए 56 भोग की तरह हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री किसी पार्टी के नहीं बल्कि देश के होते हैं। दुर्भाग्यवश प्रधानमंत्री के मान सम्मान की बजाय विपक्ष और खास तौर से कांग्रेस के द्वारा उन पर अभद्र टिप्पणियां की गई। विपक्ष का अभद्र टिप्पणी करना दुर्भाग्यवश नितिन गडकरी ने कहा, दुर्भाग्यवश प्रधानमंत्री के मान सम्मान की बजाय विपक्ष और खास तौर से कांग्रेस द्वारा की उन पर अभद्र टिप्पणियां की गई. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर गलती से नहीं बल्कि जान बूझकर अभद्र टिप्पणी की. विकास से डर के कांग्रेस गंदी-गंदी टिप्पणियां करने लगी है कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा "पर्फॉरमेंस और कार्य चुनाव का मुद्दा न बने, इसके लिए विपक्ष दो बातों पर चुनाव को लेकर गया। पहला दलितों, अल्पसंख्यकों, एससी-एसटी के मन में डर पैदा करना और दूसरा विकास के जो काम 50 साल में नहीं हुए और 5 साल में हुए, उस पर चर्चा न करके जानबूझकर गंदी-गंदी टिप्पणियां करना। जिसमें राहुल जी को तो सुप्रीम कोर्ट में अपने ब्यान के बारे में जिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ा वो सबको पता है। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि जो 1984 के दंगा पीड़ितों को न्याय नहीं दे पाए वो देश के गरीबों को क्या न्याय देंगे। जिन लोगों पर अत्याचार और अन्याय हुआ उनको न्याय नहीं दे पाए, वो क्या देश के गरीबों को न्याय देंगे। राहुल पर हमलावर होते हुए उन्होंने कहा " इनकी पीढ़ियां गरीबी हटाओ की बात करती रही, लेकिन गरीबी हटी नहीं"। अब राहुल जी भी वही बात कह रहे हैं, तो इनकी विश्वनियता कहां हैं? ये न्याय नहीं है, आज तक हुए अन्याय की बात है।