आर्थिक सुस्ती पर बोले नितिन गडकरी, कहा- मुश्किल समय जल्द बीत जाएगा

nitin
आर्थिक सुस्ती पर बोले नितिन गडकरी, कहा- मुश्किल समय जल्द बीत जाएगा

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अर्थव्यवस्था में सुस्ती के दौर के बीच शनिवार को एक बयान में कहा कि उद्योगों को परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि मुश्किल समय गुजर जाएगा। विदर्भ उद्योग संघ के 65वें स्थापना दिवस पर बोलते हुए नितिन गडकरी ने कहा कि ऑटॉमोबोइल सेक्टर (Automobile sector) को ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है, यह एक मुश्किल वक्त है जो गुजर जाएगा।  

Nitin Gadkari Says On Economic Slowdown Tough Time Will Pass :

कार्यक्रम में गडकरी ने कहा, ‘मुझे पता है कि उद्योग काफी कठिन दौर से गुजर रहे है। हम वृद्धि दर बढ़ाना चाहते हैं।’ उन्होंने कहा कि हाल ही में वह ऑटोमोबाइल निर्माताओं से मिले थे और वे कुछ चिंतित थे। इसपर गडकरी ने उन्हें सलाह दी थी। उसका जिक्र करते हुए गडकरी बोले,‘मैंने उनसे कहा, कभी खुशी होती है, कभी गम होता है। कभी आप सफल होते हैं और कभी आप असफल होते हैं। यही जीवन चक्र है।’ बता दें कि पिछले कुछ महीनों से ऑटो सेक्टर की ग्रोथ काफी स्लो है। इसकी वजह गाड़ियों की बिक्री में आई कमी है।

दिखने लगे हैं सुधार के संकेत

बता दें वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है कि कि अर्थव्यवस्था के अधिकांश घटकों में सुधार के संकेत स्पष्ट मिलने लगे हैं। उन्होंने कहा कि पहली तिमाही में आर्थिक विकास दर घटकर छह साल के निचले स्तर पर पांच प्रतिशत तक गिरने के बाद औद्योगिकी उत्पादन और स्थिर निवेश बढ़ा है।

सीतारमण ने कहा, ‘एफडीआई (प्रत्यक्ष विदेशी निवेश) आगम जबरदस्त रहा है और विदेशी पूंजी भंडार रिकॉर्ड स्तर पर है। राजकोषीय घाटा में सुधार हुआ है और चालू खाता घाटा में वृद्धि थम गई है। स्थिर निवेश में पहले ही सुधार हुआ है। आईआईपी (औद्योगिक उत्पादन सूचकांक) में वृद्धि दर्ज की गई है और ऐसा ही प्रमुख उद्योगों के उत्पादन में हुआ है। खुदरा महंगाई दर चार फीसदी के नीचे थमी हुई है।’

 

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अर्थव्यवस्था में सुस्ती के दौर के बीच शनिवार को एक बयान में कहा कि उद्योगों को परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि मुश्किल समय गुजर जाएगा। विदर्भ उद्योग संघ के 65वें स्थापना दिवस पर बोलते हुए नितिन गडकरी ने कहा कि ऑटॉमोबोइल सेक्टर (Automobile sector) को ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है, यह एक मुश्किल वक्त है जो गुजर जाएगा।   कार्यक्रम में गडकरी ने कहा, ‘मुझे पता है कि उद्योग काफी कठिन दौर से गुजर रहे है। हम वृद्धि दर बढ़ाना चाहते हैं।’ उन्होंने कहा कि हाल ही में वह ऑटोमोबाइल निर्माताओं से मिले थे और वे कुछ चिंतित थे। इसपर गडकरी ने उन्हें सलाह दी थी। उसका जिक्र करते हुए गडकरी बोले,‘मैंने उनसे कहा, कभी खुशी होती है, कभी गम होता है। कभी आप सफल होते हैं और कभी आप असफल होते हैं। यही जीवन चक्र है।’ बता दें कि पिछले कुछ महीनों से ऑटो सेक्टर की ग्रोथ काफी स्लो है। इसकी वजह गाड़ियों की बिक्री में आई कमी है। दिखने लगे हैं सुधार के संकेत बता दें वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है कि कि अर्थव्यवस्था के अधिकांश घटकों में सुधार के संकेत स्पष्ट मिलने लगे हैं। उन्होंने कहा कि पहली तिमाही में आर्थिक विकास दर घटकर छह साल के निचले स्तर पर पांच प्रतिशत तक गिरने के बाद औद्योगिकी उत्पादन और स्थिर निवेश बढ़ा है। सीतारमण ने कहा, 'एफडीआई (प्रत्यक्ष विदेशी निवेश) आगम जबरदस्त रहा है और विदेशी पूंजी भंडार रिकॉर्ड स्तर पर है। राजकोषीय घाटा में सुधार हुआ है और चालू खाता घाटा में वृद्धि थम गई है। स्थिर निवेश में पहले ही सुधार हुआ है। आईआईपी (औद्योगिक उत्पादन सूचकांक) में वृद्धि दर्ज की गई है और ऐसा ही प्रमुख उद्योगों के उत्पादन में हुआ है। खुदरा महंगाई दर चार फीसदी के नीचे थमी हुई है।'