राजमार्गों के अलावा पूरे देश में बंद होनी चाहिए शराब की बिक्री: नीतीश कुमार

बिहार। सुप्रीम कोर्ट के राष्ट्रीय एवं राजकीय राजमार्गों के आसपास शराब बिक्री पर पाबंदी लगाने के आदेश के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में शराब बंदी के बाद से सड़क हादसों और आपराधिक घटनाओं में कमी आई है। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि शराब राजमार्गों के अलावा पूरे देश में बंद होनी चाहिए। शराबबंदी से देशभर में आपराधिक घटनाओं में कमी आएगी।




नीतिश कुमार ने बिहार के मधेपुरा में निश्चय यात्रा के दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि कुछ बुद्धिजीवी वर्ग के लोग उनकी सरकार द्वारा राज्य में लागू शराबबंदी के फैसले की लगातार आलोचना करते रहे हैं। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद हमारे शराबबंदी के निर्णय को बल मिला है।

उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने देश में सडक़ दुर्घटनाओं में लगातार हो रही बढ़ोतरी के रोकने के लिए यह फैसला सुनाया है। न्यायालय ने केंद्र सरकार को 1 अप्रैल 2017 से राष्ट्रीय एवं राजकीय राजमार्गों के आसपास शराब की दुकानों को बंद करने का आदेश देते हुए कहा है कि वित्त वर्ष 2017-18 में वह मौजूदा शराब दुकानों के लाइसेंस का रिन्यू न करे।




आपको बता दें कि 1 अप्रैल 2017 से राष्ट्रीय राजमार्गों और राजकीय राज्यमार्गों पर 500 मीटर के दायरे में शराब की दुकानों को बंद किया जाएगा। यह आदेश सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिया गया है। अदालत का कहना है कि राजमार्गों पर खुली शराब की दुकाने सड़क हादसों के लिए बहुत बड़ी वजह हैं।

Loading...