नीतीश ने जीता विश्वासमत, NDA को 131 विपक्ष को मिले 108 वोट

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया। नीतीश के पक्ष में 131, वहीं विरोध में 108 वोट पड़े। विधानसभा की कारवाई प्रारंभ होने के पूर्व ही राजद और कांग्रेस के विधायकों ने हंगामा किया। नीतीश ने कहा, ‘सत्ता सेवा के लिए होती है, मेवा खाने के लिए नहीं।’

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंत्रिपरिषद के पक्ष में विधानसभा में विश्वास मत का प्रस्ताव पेश किया। इसके बाद विश्वास मत के पक्ष और विपक्ष में चर्चा के बाद मतदान शुरू हुआ। विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने शुरू में ध्वनिनमत से मतदान कराने की कोशिश की लेकिन दोनों ओर से तेज आवाज के कारण निर्णय नहीं हो सका। इसके बाद लॉबी डिविजन से मतदान कराया गया, जिसमें विश्वास मत के प्रस्ताव के पक्ष में 131 मत जबकि विरोध में 108 मत पड़े।

विधानसभा से बाहर निकलने के बाद भाजपा के नेता प्रेम कुमार ने कहा कि यह पहले से ही तय था कि बिहार की जनता राजग के साथ है। उन्होंने कहा कि आज पूरा परिवार खुश है। उन्होंने विश्वास मत प्राप्त करने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बधाई दी।

पटना हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर–

पटना हाईकोर्ट के वकील दिनेश खुर्पीवाला ने जनहित याचिका दायर की है। पिटीशन में कहा गया है कि नीतीश की नई सरकार बनवाने में राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी ने संविधान के निर्देशों का सही तरह से पालन नहीं किया। हालांकि, इस पिटीशन पर हाईकोर्ट में सोमवार को सुनवाई होगी।