नीतीश कुमार ने मंत्रिमंडल विस्तार में बीजेपी से बनाई दूरी, जेडीयू के 8 विधायक बने मंत्री

nitish kumar
नीतीश कुमार ने मंत्रिमंडल विस्तार में बीजेपी से बनाई दूरी, जदयू के 8 विधायक बने मंत्री

पटना। मोदी कैबिनेट में शामिल नहीं पर जेडीयू ने आज अपने कैबिनेट का विस्तार किया है। इसमें जेडीयू के आठ विधायक मंत्री बने हैं, जबकि ​बीजेपी का कोई भी सदस्य इसमें नहीं शामिल हो सका है। इस विस्तार में नीतीश ने जातिय गणित का ध्यान रखा है। बताया जा रहा है कि मोदी कैबिनेट में नहीं शामिल होने के कारण जेडीयू ने भी बीजेपी से दूरी बना ली है। हालांकि जेडीयू का इस पर कहना है कि भाजपा कोटे के मंत्री पहले ही बनाए जा चुके हैं और हाल में जो पद खाली हुए हैं, वे सभी जेडीयू कोटे के हैं।

Nitish Kumars Expansion Of Cabinet :

जेडीयू से जिन 8 मंत्रियों ने शपथ ली है उनमें श्याम रजक, जेडीयू प्रवक्ता नीरज सिंह, कांग्रेस से जेडीयू आए अशोक चौधरी, राम सेवक कुशवाहा, नरेंद्र नारायण यादव, संजय झा, लक्ष्मेश्वर राय और बीमा भारती शामिल हैं। खास बात ये है कि मोदी की सरकार में बिहार से बीजेपी ने जिन लोगों को मंत्री बनाया है उनमें अस्सी फीसद अगड़े हैं और ठीक इसके उलट नीतीश कुमार ने कैबिनेट विस्तार में पिछड़ो को जगह दी है।

नीतीश कैबिनेट में जेडीयू के 8 नामों में दो अगड़े और 6 पिछड़े नेता शामिल हैं। बता दें कि नीतीश सरकार में तीन मंत्रियों के सांसद बन जाने के बाद तीन मंत्री पद खाली हैं, जिसको भरने के लिए आज विस्तार किया गया। जिसमें ललन सिंह, पशपति पारस और दिनेश चंद्र यादव शामिल हैं। वहीं,मुजफ्फरपुर कांड को लेकर मंजू वर्मा ने समाज कल्याण मंत्री पद से इस्तीफा दिया था। ऐसे में यह पद भी पहले से खाली था।

पटना। मोदी कैबिनेट में शामिल नहीं पर जेडीयू ने आज अपने कैबिनेट का विस्तार किया है। इसमें जेडीयू के आठ विधायक मंत्री बने हैं, जबकि ​बीजेपी का कोई भी सदस्य इसमें नहीं शामिल हो सका है। इस विस्तार में नीतीश ने जातिय गणित का ध्यान रखा है। बताया जा रहा है कि मोदी कैबिनेट में नहीं शामिल होने के कारण जेडीयू ने भी बीजेपी से दूरी बना ली है। हालांकि जेडीयू का इस पर कहना है कि भाजपा कोटे के मंत्री पहले ही बनाए जा चुके हैं और हाल में जो पद खाली हुए हैं, वे सभी जेडीयू कोटे के हैं। जेडीयू से जिन 8 मंत्रियों ने शपथ ली है उनमें श्याम रजक, जेडीयू प्रवक्ता नीरज सिंह, कांग्रेस से जेडीयू आए अशोक चौधरी, राम सेवक कुशवाहा, नरेंद्र नारायण यादव, संजय झा, लक्ष्मेश्वर राय और बीमा भारती शामिल हैं। खास बात ये है कि मोदी की सरकार में बिहार से बीजेपी ने जिन लोगों को मंत्री बनाया है उनमें अस्सी फीसद अगड़े हैं और ठीक इसके उलट नीतीश कुमार ने कैबिनेट विस्तार में पिछड़ो को जगह दी है। नीतीश कैबिनेट में जेडीयू के 8 नामों में दो अगड़े और 6 पिछड़े नेता शामिल हैं। बता दें कि नीतीश सरकार में तीन मंत्रियों के सांसद बन जाने के बाद तीन मंत्री पद खाली हैं, जिसको भरने के लिए आज विस्तार किया गया। जिसमें ललन सिंह, पशपति पारस और दिनेश चंद्र यादव शामिल हैं। वहीं,मुजफ्फरपुर कांड को लेकर मंजू वर्मा ने समाज कल्याण मंत्री पद से इस्तीफा दिया था। ऐसे में यह पद भी पहले से खाली था।