1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. जामा मस्जिद में महिलाओं की ‘No Entry’, स्वाति मालीवाल बोलीं – यह महिला विरोधी फैसला

जामा मस्जिद में महिलाओं की ‘No Entry’, स्वाति मालीवाल बोलीं – यह महिला विरोधी फैसला

देश की राजधानी दिल्ली की जामा मस्जिद एक बार फिर सुर्खियों में है। इस बार ये ऐतिहासिक मस्जिद अपने एक फरमान को लेकर विवादों में है। बता दें कि अब जामा मस्जिद में लड़कियों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह फरमान मस्जिद की ओर से जारी किया गया है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली की जामा मस्जिद एक बार फिर सुर्खियों में है। इस बार ये ऐतिहासिक मस्जिद अपने एक फरमान को लेकर विवादों में है। बता दें कि अब जामा मस्जिद में लड़कियों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह फरमान मस्जिद की ओर से जारी किया गया है।

पढ़ें :- रामदेव, बोले-महिलाएं कपड़े न पहनें तब भी अच्छी लगती हैं, स्वाति मालीवाल ने की निंदा कहा-देश से माफी मांगें

मस्जिद की दीवारों पर बाकयदा एक प्लेट लगा दी गई है। सोशल मीडिया पर यह प्लेट वायरल हो रही है। जिसमें लिखा हुआ है कि जामा मस्जिद में लड़की या लड़कियों का अकेले दाखिला मना है। बता दें कि अब जामा मस्जिद के द्वारा लिए गए इस फैसले की चौतरफा निंदा हो रही है। हिंदू सगंठनों ने भी जामा मस्जिद के इस फैसले की कड़ी निंदा की है। वहीं सोशल मीडिया पर भी लोग इस फैसला का जमकर विरोध कर रहे है।

पढ़ें :- Delhi News: जामा मस्जिद में लड़कियों के प्रवेश पर पाबंदी हटी, LG के दखल से वापस लिया फैसला

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने भी जामा मस्जिद में लड़कियों की एंट्री पर रोक लगाने पर नाराजगी जाहिर की है। साथ ही मालीवाल ने जामा मस्जिद के इमाम को नोटिस भी भेजा है। उन्होंने गुरुवार को ट्वीट करते हुए लिखा, ”जामा मस्जिद में महिलाओं की एंट्री रोकने का फ़ैसला बिलकुल ग़लत है। जितना हक एक पुरुष को इबादत का है उतना ही एक महिला को भी। मैं जामा मस्जिद के इमाम को नोटिस जारी कर रही हूं। इस तरह महिलाओं की एंट्री बैन करने का अधिकार किसी को नहीं है।”

इससे पहले विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता विनोद बंसल ने जामा मस्जिद प्रशासन के इस फैसले की आलोचना की थी। उन्होंने लिखा, ”तीन तलाक, हलाला, हिजाब और काले बोरे में कैद रखने वाले जिहादी ठेकेदार मुस्लिम बेटियों को व्यभिचार के अड्डे बनते मदरसों में भेजने की तो वकालत करते हैं किन्तु, मस्जिदों के गेट पर लट्ठ लेकर खड़े हो जाते हैं..?

पढ़ें :- दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष की गाड़ियों में तोड़फोड़, हमले के समय घर पर नहीं थीं स्वाति मालीवाल

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...