घाटी में शातिपूर्ण बीती बकरीद, नहीं हुआ किसी भी प्रकार का कोई ​बवाल

bakreed
घाटी में शातिपूर्ण बीती बकरीद, नहीं हुआ किसी भी प्रकार का कोई ​बवाल

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने के बाद सोमवार को पहली बार ईद मनाई गई। आशंका जताई जा रही थी कि बवाली लोग किसी प्रकार से भी अशांति फैला सकते हैं। हालाकि ऐसा कुछ नहीं हुआ। हालाकि प्रशासन ने सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की गई है। यहां अधिकतर इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया है।

No Ruckus Of Any Kind In Kashmir During Bakreed :

बता दें कि आज यहां बकरीद की नमाज पढ़ी गई। जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव (योजना आयोग) रोहित कंसल ने मीडिया को जानकारी दी कि घाटी में कोई अप्रिय घटना नहीं हुई है। त्योहार काफी सुकून से बीता है। उन्होंने सुरक्षा एजेंसियों द्वारा फायरिंग की खबरों का भी खंडन किया।

जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव (योजना आयोग) रोहित कंसल ने कहा कि मीडिया में सुरक्षा एजेंसियों द्वारा गोलीबारी और मौतों की खबरें हैं। हालाकि उन्होने ब्रीफिंग करके बताया कि इस प्रकार की कोई भी घटना घाटी में नहीं हुई है। मैं आपको फिर से बता दूं कि सुरक्षाबलों की ओर से एक भी गोली नहीं चलाई गई है और न ही कोई मौत हुई है।

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने के बाद सोमवार को पहली बार ईद मनाई गई। आशंका जताई जा रही थी कि बवाली लोग किसी प्रकार से भी अशांति फैला सकते हैं। हालाकि ऐसा कुछ नहीं हुआ। हालाकि प्रशासन ने सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की गई है। यहां अधिकतर इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया है। बता दें कि आज यहां बकरीद की नमाज पढ़ी गई। जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव (योजना आयोग) रोहित कंसल ने मीडिया को जानकारी दी कि घाटी में कोई अप्रिय घटना नहीं हुई है। त्योहार काफी सुकून से बीता है। उन्होंने सुरक्षा एजेंसियों द्वारा फायरिंग की खबरों का भी खंडन किया। जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव (योजना आयोग) रोहित कंसल ने कहा कि मीडिया में सुरक्षा एजेंसियों द्वारा गोलीबारी और मौतों की खबरें हैं। हालाकि उन्होने ब्रीफिंग करके बताया कि इस प्रकार की कोई भी घटना घाटी में नहीं हुई है। मैं आपको फिर से बता दूं कि सुरक्षाबलों की ओर से एक भी गोली नहीं चलाई गई है और न ही कोई मौत हुई है।