1. हिन्दी समाचार
  2. Nobel Prize 2019: जाने 10 दिसंबर को ही क्यों दिया जाता है नोबेल पुरस्कार

Nobel Prize 2019: जाने 10 दिसंबर को ही क्यों दिया जाता है नोबेल पुरस्कार

Nobel Prize Ceremony 2019 Know Why World Most Prestigious Award Prize

By आस्था सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। नोबेल पुरस्कार 2019 के विजेताओं के नाम के ऐलान के बाद आज यानि 10 दिसंबर को होने वाले समारोह में विनर को राशि के साथ मेडल से सम्मानित किया आएगा। याद हो कि पुरस्कार के लिए नाम की घोषणा अक्टूबर में ही कर दी जाती है लेकिन इसे दिया 10 दिसंबर को ही जाता है। लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है कि आखिर 10 दिसंबर को ही नोबेल पुरस्कार दिया जाता है?

पढ़ें :- इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान, इनको मिली जगह

बता दें कि 10 दिसंबर को स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की पुण्य स्मृति होती है और यही वजह है कि इसे इस दिन दिया जाता है। यह पुरस्कार नोबेल फाउंडेशन की ओर से हर साल प्रदान किया जाने वाला दुनिया का सर्वोच्च सम्मान होता है जो कि शांति, साहित्य ,भौतिकी, रसायन विज्ञान, चिकित्सा विज्ञान तथा अर्थशास्त्र के क्षेत्र में प्रदान किया जाता है। इस बार भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को भी नोबेल पुरस्कार दिया गया है। अर्थशास्त्र के क्षेत्र में अभिजीत बनर्जी के साथ उनकी पत्नी एस्थर डफ्लो और माइकल क्रेमर को भी नोबेल अवॉर्ड दिए जाने का ऐलान हो चुका है।

यहां जानिए विभिन्न क्षेत्रों में नोबेल पुरस्कार जीतने वालों की पूरी लिस्ट

अल्फ्रेड नोबेल?

अल्फ्रेड नोबेल स्वीडन के रहने वाले थे और रसायनज्ञ तथा इंजीनियर थे।
इन्होने डाइनामाइट नामक प्रसिद्ध बिस्फोटक का आविष्कार किया था।
नोबेल को डायनामाइट तथा इस तरह के विज्ञान के अनेक आविष्कारों की विध्वंसक शक्ति की बखूबी समझ थी।
अल्फेड नोबेल की इच्छा थी कि इस पैसे के ब्याज से हर साल उन लोगों को सम्मानित किया जाए जिनका काम मानव जाति के लिए सबसे कल्याणकारी पाया जाए।
इस तरह से अल्फ्रेड नोबेल की इच्छा के अनुसार नोबेल फाउंडेशन द्वारा हर साल यह अवार्ड प्रदान किया जाता है।

पढ़ें :- कुर्की के आदेश के बाद नसीमुद्दीन और रामअचल राजभर ने कोर्ट में किया सरेंडर, भेजे गए जेल

अर्थशास्त्र का नोबेल

भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को वर्ष 2019 के लिए अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार दिया गया है।
उन्हें यह पुरस्कार फ्रांस की एस्थर डुफ्लो (अभिजीत बनर्जी की पत्नी) और अमेरिका के माइकल क्रेमर के साथ संयुक्त रूप से दिया गया है।
यह पुरस्कार ‘वैश्विक स्तर पर गरीबी उन्मूलन के लिए किये गये कार्यों के लिए मिला।

शांति का नोबेल

इस बार नोबेल शांति पुरस्कार इथियोपिया के प्रधानमंत्री अबी अहमद अली को देने की घोषणा हुई है।
यह पुरस्कार उनके देश के चिर शत्रु इरिट्रिया के साथ संघर्ष को सुलझाने के लिए दिया गया है।
नोबेल पुरस्कार जूरी ने जानकारी दी थी कि अबी अहमद अली को शांति और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग प्राप्त करने के प्रयासों के लिए और विशेष रूप से पड़ोसी इरिट्रिया के साथ सीमा संघर्ष को सुलझाने के निर्णायक पहल के लिए इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

साहित्य का नोबेल

पढ़ें :- ऑस्ट्रेलिया को हराने के बाद टीम इंडिया पर रुपयों की बारिश, पांच करोड़ का मिला बोनस

‘द रिमेन्स ऑफ द डे’ उपन्यास के लिए मशहूर ब्रिटिश लेखक काजुओ इशिगुरो को इस वर्ष के साहित्य के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है।

फिजिक्स के लिए नोबेल

कनाडा-अमेरिका के जेम्स पीबल्स, स्विट्जरलैंड के माइकल मेयर और डिडियर क्वेलोज को फिजिक्स के लिए नेाबेल अवॉर्ड दिए जाने की घोषणा हुई है।

कैमेस्ट्री का नोबेल

कैमेस्ट्री के क्षेत्र के लिए भी नोबेल पुरस्कार के नामों की घोषणा हो चुकी है।
नोबेल पुरस्कार के लिए अमेरिकी वैज्ञानिक जॉन गुडइनफ, ब्रिटेन के स्टेनली व्हिटिंघम और जापानी वैज्ञानिक अकीरा योशिनो को चुना गया है।

चिकित्सा क्षेत्र में नोबल पुरस्कार

पढ़ें :- संसद की कैंटीन में मिलने वाली सब्सिडी पूरी तरह से हुई खत्म, अब रेट लिस्ट पर ही मिलेगा खाना

दो प्रतिरक्षा वैज्ञानिकों (इम्यूनोलाजिस्ट) अमेरिका के जेम्स एलीसन और जापान के तासुकु होन्जो को कैंसर थेरेपी की खोज के लिए चिकित्सा के क्षेत्र का नोबेल पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की हो चुकी है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...