नोएडा में वोटिंग के दौरान बांटे ‘नमो फूड’ पैकेट

namo food
नोएडा में वोटिंग के दौरान बंटे ‘नमो फूड’ पैकेट

नई दिल्ली। वोटिंग के दिन नोएडा सेक्टर-15ए स्थित पोलिंग बूथ के पास चुनावी गाड़ी में ‘नमो फूड्स’ की थाली बांटी गई। बताया जाता है कि ये पैकेट सेक्टर-15 के मतदान केंद्र पर तैनात पुलिसकर्मियों के लिए लाए गए थे। अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि यह खाना किसी राजनीतिक दल ने नहीं दिया था बल्कि इसे ‘नमो फूड’ नामक दुकान से खरीदा गया था।

Noida Election Commission Namo Food Mahesh Sharma :

वहीं  गौतम बुद्ध नगर एसएसपी ने पुलिसकर्मियों के पोलिंग अधिकारियों को नमो फूड बांटे जाने से इनकार किया है। एसएसपी ने कहा, ‘कुछ लोगों के द्वारा यह बात झूठी फैलाई गई कि गौतमबुद्ध नगर में कुछ पुलिस जवानों को नमो फूड पैकेट बांटे गए और ये किसी राजनीतिक पार्टी के द्वारा वितरित किए गए। ऐसा बिल्कुल नहीं है। ये बिल्कल गलत किसी ने तथ्य पेश किए हैं।’  

प्रशासन की सफाई- काफी पुरानी है दुकान 

नमो फूड पर हुए विवाद पर अडिशनल चीफ इलेक्शन ऑफिसर बीआर तिवारी ने बयान दिया। उन्होंने कहा, ‘हमें इस बारे में मीडिया की खबरों से ही पता चला। वह दुकान काफी पुरानी है। 10 साल से भी पुरानी और इसी नाम से चल रही है। मीडिया में इसे दूसरे ढंग से दिखाया गया।’ 

नमो फूड पैकेट विवाद पर EC का बयान

चुनाव आयोग ने नोएडा में नमो फूड पैकेट बांटे जाने के विवाद पर कहा कि नमो फूड बेचने वाली की कंपनी कई साल पुरानी है। कंपनी ने नमो नाम को रजिस्टर कराया था।

गौरतलब है कि गौतमबुद्ध नगर में गुरुवार को लोकसभा चुनाव के पहले चरण के तहत वोटिंग हो रही है। इस सीट पर केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता की किस्मत  दांव पर लगी है। कांग्रेस ने अरविंद कुमार सिंह को जबकि सपा-बसपा-रालोद गठबंधन ने यहां बसपा के सतवीर को संयुक्त रूप से अपना उम्मीदवार बनाया है। इस संसदीय क्षेत्र से दो निर्दलीय सहित कुल 13 उम्मीदवार मैदान में हैं।

नई दिल्ली। वोटिंग के दिन नोएडा सेक्टर-15ए स्थित पोलिंग बूथ के पास चुनावी गाड़ी में 'नमो फूड्स' की थाली बांटी गई। बताया जाता है कि ये पैकेट सेक्टर-15 के मतदान केंद्र पर तैनात पुलिसकर्मियों के लिए लाए गए थे। अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि यह खाना किसी राजनीतिक दल ने नहीं दिया था बल्कि इसे ‘नमो फूड' नामक दुकान से खरीदा गया था।

वहीं  गौतम बुद्ध नगर एसएसपी ने पुलिसकर्मियों के पोलिंग अधिकारियों को नमो फूड बांटे जाने से इनकार किया है। एसएसपी ने कहा, ‘कुछ लोगों के द्वारा यह बात झूठी फैलाई गई कि गौतमबुद्ध नगर में कुछ पुलिस जवानों को नमो फूड पैकेट बांटे गए और ये किसी राजनीतिक पार्टी के द्वारा वितरित किए गए। ऐसा बिल्कुल नहीं है। ये बिल्कल गलत किसी ने तथ्य पेश किए हैं।’  

प्रशासन की सफाई- काफी पुरानी है दुकान 

नमो फूड पर हुए विवाद पर अडिशनल चीफ इलेक्शन ऑफिसर बीआर तिवारी ने बयान दिया। उन्होंने कहा, 'हमें इस बारे में मीडिया की खबरों से ही पता चला। वह दुकान काफी पुरानी है। 10 साल से भी पुरानी और इसी नाम से चल रही है। मीडिया में इसे दूसरे ढंग से दिखाया गया।' 

नमो फूड पैकेट विवाद पर EC का बयान

चुनाव आयोग ने नोएडा में नमो फूड पैकेट बांटे जाने के विवाद पर कहा कि नमो फूड बेचने वाली की कंपनी कई साल पुरानी है। कंपनी ने नमो नाम को रजिस्टर कराया था।

गौरतलब है कि गौतमबुद्ध नगर में गुरुवार को लोकसभा चुनाव के पहले चरण के तहत वोटिंग हो रही है। इस सीट पर केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता की किस्मत  दांव पर लगी है। कांग्रेस ने अरविंद कुमार सिंह को जबकि सपा-बसपा-रालोद गठबंधन ने यहां बसपा के सतवीर को संयुक्त रूप से अपना उम्मीदवार बनाया है। इस संसदीय क्षेत्र से दो निर्दलीय सहित कुल 13 उम्मीदवार मैदान में हैं।