1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. नोएडा:पुलिस ने विवाहिता व उसके बेटे की हत्या का किया पर्दाफाश,आरोपी पति व ननद की गिरफ्तार कर भेजा जेल

नोएडा:पुलिस ने विवाहिता व उसके बेटे की हत्या का किया पर्दाफाश,आरोपी पति व ननद की गिरफ्तार कर भेजा जेल

By Roopak tyagi 
Updated Date

Noida Police Busted The Murder Of Married And Her Son Accused Husband And Sister In Law Arrested And Sent To Jail

विगत 7 नबंवर को हुई विवाहिता की हत्या का पुलिस ने पर्दाफाश किया है आपके बता दें कि पूरा मामला जनपद गौतमबुद्धनगर के बिसरख थाना क्षेत्र का है,यहाँ निवासी निशांत त्यागी की शादी अब से लगभग 5 बर्ष पूर्व असमोली थाना क्षेत्र के गांव निवासी मुनिराज की पुत्री प्रियंका से हिन्दू रीतिरिवाजों के साथ हुई थी,शादी के कुछ महीनों बाद से ही प्रियंका पर दहेज के लिए दबाव बनाया जाता था जिसकी शिकायत कई बार प्रियंका ने अपने पिता मुनिराज से भी की थी,लेकिन प्रियंका के पिता ने लोकलाज के डर से अपनई बेटी को ही समझाने का प्रयास किया।

पढ़ें :- यूपी: 24 घटे में मिले कोरोना संक्रमित 27357 केस, लखनऊ में 5913 लोगों की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

निशांत त्यागी एक प्राइवेट फर्म में ड्राइवर को नौकरी करता है,शादी होने के बाद निशांत ने प्रियंका पर अपने घर से ओर दहेज लाने के दबाव बनाया था जिसका प्रियंका ने विरोध भी किया लेकिन इन दहेजलोभी ससुरालियों द्वारा प्रियंका को मारपीटा जाने लगा प्रियंका अपने पिता की इज़्ज़त की खातिर सब कुछ सहती रही इसी बीच प्रियंका ने एक पुत्र को जन्म दिया जिसका नाम प्रियांश रखा गया, प्रियांश की उम्र महज 3 बर्ष ही हुई थी कि अचानक प्रियंका पर फिर से दहेज के लिए दबाव बनाया जाने लगा,हद तो तब हो गयी जब बीते 7 नबम्बर को प्रियंका व उसके 3 बर्ष के मासूम को दहेजलोभी ससुरालियों ने 17 मंजिला इमारत से नीचे फेंक दिया, जिसके चलते माँ और बेटे ने मौकेपर ही दम तोड़ दिया,मृतका के परिजनों ने दहेजलोभी ससुरालियों के खिलाफ दहेज हत्या की तहरीर पुलिस को दी लेकिन पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी न करते हुए जांच करने का बहाना बनाया, मामला मीडिया के संज्ञान में आने के बाद पुलिस ने प्राथमिकी तो दर्ज कर ली लेकिन आरोपी 3 महीने तक खुले घूमते रहे,मृतका के परिजन लगातार आलाधिकारियों के ऑफिस के चक्कर लगाते रहे, मामला उच्चाधिकारियों के संज्ञान में आने के बाद अधिकारियों द्वारा इस मामले में टीमें गठित की गई जिसमें प्रियंका के परिजनों के आरोप दहेजलोभी ससुरालियों पर सही सावित हुए,जिसके बाद पुलिस में तत्परता दिखाते हुए आरोपी पति व ननद रीमा को गिरफ्तार कर लिया व सुसंगत धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर जेल भेज दिया।

प्रियंका व उसके बेटे प्रियांश के जाने के बाद प्रियंका के परिजन सदमे में थे कि अगर उनकी बेटी को न्याय नही मिला तो ये लोग भविष्य में किसी के साथ भी ऐसा कृत्य कर सकते हैं लेकिन किसी ने ठीक ही कहा है कि “भगवान के घर देर है अंधेर नही” प्रियंका व उसके बेटे की जान तो चली गयी लेकिन ऐसे लोगो के लिए सबक भी बन गयी जो दहेज के चक्कर मे किसी की भी जान ले लेते हैं,परिजनों ने पुलिस की इस कार्यवाही को सराहनीय कार्य बताया है साथ ही परिजनों का यह भी कहना है कि हमारी बेटी तो बापस नही आ सकती लेकिन ऐसे लोगो को सज़ा मिलना बहुत जरूरी था,साथ ही परिजनों ने पुलिस के उन उच्चाधिकारियों का भी धन्यवाद किया जिन्होंने इस घटना का अनावरण करने में अहम भूमिका निभाई।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...