कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी

renuka
कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी

नई दिल्ली। तेलंगाना के खम्‍मम में धोखाधड़ी से जुड़े एक मामले में कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया है। यह मामला 4 साल पुराना है। एक महिला ने आरोप लगाया था कि रेणुका चौधरी ने 2014 के चुनाव में उसके पति को टिकट देने के बदले पैसे लिए थे, लेकिन टिकट नहीं दी थी। इसके बाद महिला ने इसकी धोखाधड़ी की शिकायत की थी।

Non Bailable Warrant Against Renuka Chaudhary In Four Year Old Cheating Case :

क्या है आरोप

रेणुका चौधरी पर भुकिया राम चंद्र की पत्नी बी कलावती ने मामला दर्ज कराया है। उनपर आरोप है कि उन्होंने नाइक से वादा किया था कि वह उन्हें वायरा विधानसभा सीट से टिकट दिलाएंगी। इसकी एवज में उन्होंने उनसे अलग-अलग किश्तों में कथित तौर पर 1.20 करोड़ रुपये लिए थे। जब नाइक को टिकट नहीं मिला तो चौधरी ने उन्हें पैसे वापस करने से भी मना कर दिया। पूर्व मंत्री द्वारा धोखाधड़ी किए जाने की वजह से रामजी नाइक अवसाद में चले गए और उनकी 14 अक्तूबर 2014 को मौत हो गई।

चौधरी ने जब उनके पैसे वापस नहीं किए तो नाइक की पत्नी ने खम्मम जिले की अदालत में मामला दर्ज कराया। कांग्रेस नेता कथित तौर पर अदालत के समन प्राप्त करने से इनकार कर दिया और किसी भी सुनवाई में हाजिर नहीं हुईं। 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने खम्मम लोकसभा सीट से चौधरी को अपना उम्मीदवार बनाया था। मगर वह यहां जीत दर्ज करने में असफल रहीं। उन्हें तेलंगाना राष्ट्र समिति के उम्मीदवार नामा नागेश्वर राव ने 168062 वोटों से हराया था।

नई दिल्ली। तेलंगाना के खम्‍मम में धोखाधड़ी से जुड़े एक मामले में कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया है। यह मामला 4 साल पुराना है। एक महिला ने आरोप लगाया था कि रेणुका चौधरी ने 2014 के चुनाव में उसके पति को टिकट देने के बदले पैसे लिए थे, लेकिन टिकट नहीं दी थी। इसके बाद महिला ने इसकी धोखाधड़ी की शिकायत की थी। क्या है आरोप रेणुका चौधरी पर भुकिया राम चंद्र की पत्नी बी कलावती ने मामला दर्ज कराया है। उनपर आरोप है कि उन्होंने नाइक से वादा किया था कि वह उन्हें वायरा विधानसभा सीट से टिकट दिलाएंगी। इसकी एवज में उन्होंने उनसे अलग-अलग किश्तों में कथित तौर पर 1.20 करोड़ रुपये लिए थे। जब नाइक को टिकट नहीं मिला तो चौधरी ने उन्हें पैसे वापस करने से भी मना कर दिया। पूर्व मंत्री द्वारा धोखाधड़ी किए जाने की वजह से रामजी नाइक अवसाद में चले गए और उनकी 14 अक्तूबर 2014 को मौत हो गई। चौधरी ने जब उनके पैसे वापस नहीं किए तो नाइक की पत्नी ने खम्मम जिले की अदालत में मामला दर्ज कराया। कांग्रेस नेता कथित तौर पर अदालत के समन प्राप्त करने से इनकार कर दिया और किसी भी सुनवाई में हाजिर नहीं हुईं। 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने खम्मम लोकसभा सीट से चौधरी को अपना उम्मीदवार बनाया था। मगर वह यहां जीत दर्ज करने में असफल रहीं। उन्हें तेलंगाना राष्ट्र समिति के उम्मीदवार नामा नागेश्वर राव ने 168062 वोटों से हराया था।