नार्थ कोरिया कभी भी कर सकता है अमेरिका को तबाह, कई शहरों से लोगों को हटाया गया

ameri

North Korea America World War 3 Possibility Korea Conducts Mass Evacuation Drills Tkha

नई दिल्ली। नॉर्थ कोरिया और अमेरिका के बीच तनातनी का दौरा जारी है। हालात ऐसे बनते दिख रहे हैं कि दोनों देश कभी भी एक दूसरे पर हमला कर सकते है। इसी बीच नार्थ कोरिया ने अपने कई शहरों में लोगों को खाली कराने का ड्रिल किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नॉर्थ कोरिया किसी भी आपात स्थिति से निपटने की तैयारी कर रहा है, ताकि अटैक करने के बाद उसे कम नुकसान हो। अमेरिकी डिफेंस सेक्रेटरी ने कहा है कि न्यूक्लियर अटैक की आशंका बढ़ गई है।

आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला…
अमेरिका के साथ तनातनी के बीच नॉर्थ कोरिया युद्ध से पहले किए जाने वाले अभ्यास कर रहा है। साउथ कोरिया की न्यूज एजेंसी ने विभिन्न सूत्रों के हवाले से ऐसी खबर दी है। रिपोर्ट के मुताबिक, नॉर्थ कोरिया ने राजधानी प्योंगयांग में तो ऐसा ड्रिल नहीं किया है, लेकिन दूसरे और तीसरे दर्जे के शहरों में अभ्यास किया है। इस अभ्यास को बेहद रेयर बताया जा रहा है जिसके कई मतलब हैं।

इस बीच नॉर्थ कोरिया बीते महीने में कई बार कह चुका है कि वह अमेरिका को तबाह कर सकता है। उसकी मिसाइल की पहुंच अमेरिकी शहर तक हो चुकी है। द टेलिग्राफ के मुताबिक, नॉर्थ कोरिया की ओर से न्यूक्लियर अटैक किए जाने की आशंका बढ़ गई है, यह बात अमेरिकी डिफेंस सेक्रेटरी जिम मैटिस ने शनिवार को साउथ कोरिया के दौरे पर कही है।

नॉर्थ कोरिया के हालात को समझने की कड़ी में अमेरिकी डिफेंस सेक्रेटरी साउथ कोरिया पहुंचे थे, जहां उन्होंने साउथ कोरिया के अपने समकक्ष के साथ वार्ता की। अमेरिकी डिफेंस सेक्रेटरी ने दोहराया है कि वे किसी भी हालात में न्यूक्लियर हथियार वाले नॉर्थ कोरिया को स्वीकार नहीं करेंगे। अमेरिकी डिफेंस सेक्रेटरी ने कहा है कि नॉर्थ कोरिया पड़ोसी देशों और दुनिया के लिए खतरा बन गया है और इसके मिसाइल प्रोग्राम इलीगल हैं।

नई दिल्ली। नॉर्थ कोरिया और अमेरिका के बीच तनातनी का दौरा जारी है। हालात ऐसे बनते दिख रहे हैं कि दोनों देश कभी भी एक दूसरे पर हमला कर सकते है। इसी बीच नार्थ कोरिया ने अपने कई शहरों में लोगों को खाली कराने का ड्रिल किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नॉर्थ कोरिया किसी भी आपात स्थिति से निपटने की तैयारी कर रहा है, ताकि अटैक करने के बाद उसे कम नुकसान हो। अमेरिकी डिफेंस सेक्रेटरी ने कहा है…