उत्तर कोरिया पर ट्रम्प की धमकियों का कोई असर नहीं, जारी रखेगा परमाणु परीक्षण

TROMP

नई दिल्ली। उत्तर कोरिया 2018 में भी अपनी परमाणु शक्ति को विकसित करने का अभियान जारी रखेगा। सरकारी मीडिया ने शनिवार को जारी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी। सूत्रों ने कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी (केसीएनए) की रिपोर्ट के हवाले से बताया, “उनकी नीति में किसी प्रकार के बदलाव की अपेक्षा ना करें।”रिपोर्ट में कहा गया, “एक अजेय शक्ति के रूप में उत्तरी कोरिया के अस्तित्व को ना ही कमजोर किया जा सकता है और ना ही नकारा जा सकता है। एक जिम्मेदार परमाणु शक्ति के रूप में उत्तर कोरिया सभी बाधाओं को पार करते हुए स्वतंत्रता और न्याय की राह पर चलेगा।

North Korea Has No Impact On Trump Threats Nuclear Development Will Continue :

रिपोर्ट में वर्ष 2017 के दौरान देश की परमाणु उपलब्धियों की भी जानकारी दी गई। रिपोर्ट में कहा गया कि “जब तक अमेरिका और उसके अधीन शक्तियां परमाणु खतरा बनी रहती हैं तब तक उत्तर कोरिया आत्मरक्षा के लिए और हमले की संभावना के मद्देनजर अपनी परमाणु शक्तियों का विस्तार करता रहेगा।” रिपोर्ट में “अमेरिका के प्रमुख स्थानों” पर हमला करने की प्योंगयांग की नई क्षमताओं पर भी जोर डाला गया है। साथ ही इसमें उत्तर कोरिया को “विश्व स्तरीय परमाणु शक्ति” बताया गया है। रिपोर्ट में कहा गया कि उत्तर कोरिया अमेरिका की तरफ से युद्ध की क्रूरतम घोषणा का निश्चित रूप से जवाब देगा।

नई दिल्ली। उत्तर कोरिया 2018 में भी अपनी परमाणु शक्ति को विकसित करने का अभियान जारी रखेगा। सरकारी मीडिया ने शनिवार को जारी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी। सूत्रों ने कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी (केसीएनए) की रिपोर्ट के हवाले से बताया, "उनकी नीति में किसी प्रकार के बदलाव की अपेक्षा ना करें।"रिपोर्ट में कहा गया, "एक अजेय शक्ति के रूप में उत्तरी कोरिया के अस्तित्व को ना ही कमजोर किया जा सकता है और ना ही नकारा जा सकता है। एक जिम्मेदार परमाणु शक्ति के रूप में उत्तर कोरिया सभी बाधाओं को पार करते हुए स्वतंत्रता और न्याय की राह पर चलेगा।रिपोर्ट में वर्ष 2017 के दौरान देश की परमाणु उपलब्धियों की भी जानकारी दी गई। रिपोर्ट में कहा गया कि "जब तक अमेरिका और उसके अधीन शक्तियां परमाणु खतरा बनी रहती हैं तब तक उत्तर कोरिया आत्मरक्षा के लिए और हमले की संभावना के मद्देनजर अपनी परमाणु शक्तियों का विस्तार करता रहेगा।" रिपोर्ट में "अमेरिका के प्रमुख स्थानों" पर हमला करने की प्योंगयांग की नई क्षमताओं पर भी जोर डाला गया है। साथ ही इसमें उत्तर कोरिया को "विश्व स्तरीय परमाणु शक्ति" बताया गया है। रिपोर्ट में कहा गया कि उत्तर कोरिया अमेरिका की तरफ से युद्ध की क्रूरतम घोषणा का निश्चित रूप से जवाब देगा।