शहीद की बेटी ने कहा-मैं ABVP से नहीं डरती, पड़ीं गंदी-गंदी गालियां

Not Afraid Of Abvp Kargil Martyrs Daughters Facebook Post Goes Viral

नई दिल्ली| दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में पिछले दिनों हुए विवाद के बाद कारगिल युद्ध के शहीद कैप्टन मंदीप सिंह की बेटी गुरमेहर कौर ने छात्र संगठन एबीवीपी के विरोध में फेसबुक पोस्ट लिखा है| पोस्ट के वायरल होने के बाद से ही उसे लोग गंदी-गंदी गालियां दे रहे हैं| कोई उसे गद्दार बता रहा है तो कोई उसका गैंगरेप करवाने की धमकी दे रहा है| उसके फेसबुक पोस्ट पर उसे धमकी देने वालों की जैसे बाढ़ सी आ गई है| कुछ लोगों ने ऐसे-ऐसे कमेंट किए जिसे यहां लिखा भी नहीं जा सकता|




Mubarak-Bhai-02_250217-034155

ऐसे-ऐसे आए कमेंट्स

चुल्लू भर पानी में डूब मरो| शहीद की बेटी जेहादी बन गई

आज इसका बाप जिंदा होता तो शर्म से मर जाता

तुम जैसी लड़कियां भारतीय समाज और संस्कृति के लिए ख़तरनाक हो

आतंकियों को सपोर्ट करने वाला आतंकी होता है. तुम्हारे पिता फ़ौज में थे तो इसका मतलब ये नहीं कि तुम गद्दार नहीं हो सकती

तुम एक दम *** और ****** हो

आई वॉना फ़** यू रियली

अगर तुम सिख धर्म से हो तो लानत है तुम्हारे ऊपर

ये एक टेररिस्ट है अब. जिसको दिखे गोली मार दो| जन्नत नसीब होगी-नथुराम गोडसे

सारे मुल्लों में ख़ुशी की लहर दौड़ गई है| इनकी बड़ी बहन ‘गुरमेहरिना बेग़म’ इनकी आज़ादी के लिए लड़ रही है
13_250217-031317




दरअसल, बुधवार को रामजस कॉलेज के सेमिनार में जेएनयू के छात्र उमर खालिद को वक्ता के तौर पर बुलाए जाने का एबीवीपी के छात्र विरोध करने पहुंचे थे| विरोध हिंसक होने पर करीब 20 छात्र घायल हो गए थे| इस घटना के विरोध में लेडी श्रीराम कॉलेज की छात्रा गुरमेहर ने अपनी फेसबुक फोटो को बदल दिया था| इस तस्वीर में लिखा था, “मैं दिल्ली यूनिवर्सिटी की छात्रा हूं, मैं एबीवीपी से नहीं डरती हूं| मैं अकेली नहीं हूं| देश का हर छात्र मेरे साथ है|

नई दिल्ली| दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में पिछले दिनों हुए विवाद के बाद कारगिल युद्ध के शहीद कैप्टन मंदीप सिंह की बेटी गुरमेहर कौर ने छात्र संगठन एबीवीपी के विरोध में फेसबुक पोस्ट लिखा है| पोस्ट के वायरल होने के बाद से ही उसे लोग गंदी-गंदी गालियां दे रहे हैं| कोई उसे गद्दार बता रहा है तो कोई उसका गैंगरेप करवाने की धमकी दे रहा है| उसके फेसबुक पोस्ट पर उसे धमकी देने वालों की जैसे बाढ़ सी आ…