बीजेपी सरकार ने बिजली विभाग ही नहीं और ​भी विभागों का पैसा डीएचएफएल में फंसाया : प्रियंका गांधी

priyanka
बीजेपी सरकार ने बिजली विभाग ही नहीं और ​भी विभागों का पैसा डीएचएफएल में फंसाया : प्रियंका गांधी

लखनऊ। यूपीपीसीएल के बाद यूपी सिडको कर्मचारियों का पैसा भी डीएचएफएल में फंसा हुआ है। मामला उजागर होने के बाद विपक्षी पार्टियों ने योगी सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इसको लेकर प्रदेश की योगी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने कर्मचारियों का पैसा डीएचएफएल में लगाकर डूबा दिया है।

Not Only The Electricity Department The Bjp Government Also Funneled Money From Other Departments To Dhfl Priyanka Gandhi :

उन्होंने कहा कि, कर्मचारियों के कई हजार करोड़ रुपये फंसाकर भाजपा सरकार भाग नहीं सकती। प्रियंका गांधी ने अपने ट्वीट में कहा है कि, ‘भााजपा सरकार ने बिजली विभाग के कर्मचारियों का ही नहीं और भी विभागों का पैसा डीएचएफएल में लगाकर डुबाया है। अब पता चला है कि यूपी सिडको के कर्मचारियों की कमाई भी डीएचएफएल में फंस चुकी है।

इसके साथ ही उन्होंने लिखा है कि पीएफ का घोटाला और बड़ा है। कर्मचारियों के कई हजार करोड़ रुपए फंसाकर भाजपा सरकार भाग नहीं सकती। बता दें कि, बिजली विभाग में जिन अधिकारियों पर इंजीनियरों व कर्मचारियों के सामान्य व अंशदायी भविष्य निधि की रकम को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी थी, उन्होंने इस निधि के 4122.70 करोड़ रुपये को असुरक्षित निजी कंपनी डीएचएफसीएल में नियमों का उल्लंघन करके लगा दिया।

इस मामले में पुलिस ने UPPCL के पूर्व एमडी एपी मिश्र, तत्कालीन वित्त निदेशक सुधांशु द्विवेदी और महाप्रबंधक व सचिव ट्रस्ट प्रवीण कुमार गुप्ता को गिरफ्तार कर चुकी है।

लखनऊ। यूपीपीसीएल के बाद यूपी सिडको कर्मचारियों का पैसा भी डीएचएफएल में फंसा हुआ है। मामला उजागर होने के बाद विपक्षी पार्टियों ने योगी सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इसको लेकर प्रदेश की योगी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने कर्मचारियों का पैसा डीएचएफएल में लगाकर डूबा दिया है। उन्होंने कहा कि, कर्मचारियों के कई हजार करोड़ रुपये फंसाकर भाजपा सरकार भाग नहीं सकती। प्रियंका गांधी ने अपने ट्वीट में कहा है कि, 'भााजपा सरकार ने बिजली विभाग के कर्मचारियों का ही नहीं और भी विभागों का पैसा डीएचएफएल में लगाकर डुबाया है। अब पता चला है कि यूपी सिडको के कर्मचारियों की कमाई भी डीएचएफएल में फंस चुकी है। इसके साथ ही उन्होंने लिखा है कि पीएफ का घोटाला और बड़ा है। कर्मचारियों के कई हजार करोड़ रुपए फंसाकर भाजपा सरकार भाग नहीं सकती। बता दें कि, बिजली विभाग में जिन अधिकारियों पर इंजीनियरों व कर्मचारियों के सामान्य व अंशदायी भविष्य निधि की रकम को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी थी, उन्होंने इस निधि के 4122.70 करोड़ रुपये को असुरक्षित निजी कंपनी डीएचएफसीएल में नियमों का उल्लंघन करके लगा दिया। इस मामले में पुलिस ने UPPCL के पूर्व एमडी एपी मिश्र, तत्कालीन वित्त निदेशक सुधांशु द्विवेदी और महाप्रबंधक व सचिव ट्रस्ट प्रवीण कुमार गुप्ता को गिरफ्तार कर चुकी है।