B.Ed डिग्रीधारकों के लिए खुशखबरी, मिलेगा प्राइमरी टीचर बनने का मौका

लखनऊ। अगर आपने बीएड पास कर लिया है और टीचर बनने की तैयारी कर रहे हैं तो आपके लिए खुशखबरी है। खुशी की बात यह है कि अब बीएड डिग्रीधारक भी पहली से पाँचवी तक के बच्चों को पढ़ा सकेंगे। राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षण परिषद (एनसीटीई) द्वारा किए गए बदलाव में यह फैसला लिया गया। हालांकि उन्हे नौकरी पाने के दो साल के भीतर प्रतिभागियों को छह माह का एक ब्रिज कोर्स करना होगा।

Now B Ed Degree Holder Can Become Primary School Teacher :

ये अभ्यर्थी बन सकेंगे प्राइमरी टीचर

  • ऐसे छात्र जिनके ग्रेजुएशन में कम से कम 50 फीसदी मार्क्स हों।
  • प्राइमरी टीचर के तौर पर नियुक्त होने के 6 महीने के अंदर उन्हें ब्रिज कोर्स पास करना भी जरूरी होगा।
  • बीएड के साथ उन्हें टीईटी पास होना भी आवश्यक है।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने डेढ़ साल पहले बताया था कि देश के सरकारी प्राइमरी स्कूलों में अभी भी करीब 9 लाख 7 हजार 585 टीचर्स के पद खाली हैं। इनमें आधी हिस्सेदारी सिर्फ चार राज्यों बिहार, यूपी, मध्यप्रदेश, झारखंड और पश्चिम बंगाल की ही है। फिलहाल, यह खबर बीएड अभ्यार्थियों के लिए किसी तोहफे से कम नहीं है।

लखनऊ। अगर आपने बीएड पास कर लिया है और टीचर बनने की तैयारी कर रहे हैं तो आपके लिए खुशखबरी है। खुशी की बात यह है कि अब बीएड डिग्रीधारक भी पहली से पाँचवी तक के बच्चों को पढ़ा सकेंगे। राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षण परिषद (एनसीटीई) द्वारा किए गए बदलाव में यह फैसला लिया गया। हालांकि उन्हे नौकरी पाने के दो साल के भीतर प्रतिभागियों को छह माह का एक ब्रिज कोर्स करना होगा। ये अभ्यर्थी बन सकेंगे प्राइमरी टीचर
  • ऐसे छात्र जिनके ग्रेजुएशन में कम से कम 50 फीसदी मार्क्स हों।
  • प्राइमरी टीचर के तौर पर नियुक्त होने के 6 महीने के अंदर उन्हें ब्रिज कोर्स पास करना भी जरूरी होगा।
  • बीएड के साथ उन्हें टीईटी पास होना भी आवश्यक है।
मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने डेढ़ साल पहले बताया था कि देश के सरकारी प्राइमरी स्कूलों में अभी भी करीब 9 लाख 7 हजार 585 टीचर्स के पद खाली हैं। इनमें आधी हिस्सेदारी सिर्फ चार राज्यों बिहार, यूपी, मध्यप्रदेश, झारखंड और पश्चिम बंगाल की ही है। फिलहाल, यह खबर बीएड अभ्यार्थियों के लिए किसी तोहफे से कम नहीं है।