अब सुरक्षित विमान में सफर करेंगे PM मोदी, अभी तक करते थे बोइंग 747 में यात्रा

PM Modi
अब सुरक्षित विमान में सफर करेंगे PM मोदी, अभी तक करते थे बोइंग 747 में यात्रा

देश के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के लिए दो बेहद खास विमान बोइंग-777 सितंबर अंत तक भारत आने की संभावना है। इस मामले से जुड़े दो अधिकारियों ने बताया कि मिसाइल अटैक से भी सुरक्षित ये विमान सिक्यॉरिटी फीचर्स के मामले में अमेरिकी राष्ट्रपति के विमान जैसे होंगे।

Now Pm Modi Will Travel In A Safe Plane Used To Travel In Boeing 747 Till Now :

पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर अधिकारियों ने बताया कि पहला हेड ऑफ स्टेट बोइंग-777 विमान अमेरिका से अगस्त के अंत में भारत आएगा और दूसरा इसके अगले महीने। ये विमान सेल्फ प्रोटेक्शन सूइट्स (SPS) से लैस होंगे। इन्फ्रारेड रोधी, अडवांस डिफेंस इलेक्ट्रॉनिक वॉरफेयर सूइट्स और मिसाइल हमलों से बचाने वाली तकनीक इन विमानों को बेहद खास बनाते हैं।

अधिकारियों ने बताया कि ये विमान अमेरिकी राष्ट्रपति के एयरफोर्स वन विमान जितने सुरक्षित होंगे।

एयर इंडिया ने एक जोड़ी बोइंग 777-300 ER एयरक्राफ्ट उत्तरी टेक्सास में स्थित बोइंग फैसिलिटी में भेजे हैं। इन्हें वीवीआईपी ट्रैवल के लिए नए अवतार में बदला जा रहा है। जिसमें मिसाइल डिफेंस सिस्टम लगाना भी शामिल है। बताया जा रहा है कि दोनों विमान 3 साल से कम पुराने हैं।

इन विमानों में पीएम मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू सफर करेंगे। सेंट्रर ऑफ एयर पावर स्टडीज (CAPS) के डायरेक्टर जनरल एयर मार्शल (रिटा.) केके नोहवार ने कहा, ”अति विशिष्ट लोगों पर हमेशा खतरा होता है। एक देश को अपने टॉप लीडर्स की सुरक्षा के लिए हर कदम उठाने चाहिए।”

अभी पीएम, राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति एयर इंडिया के बोइंग 747 विमानों में सफर करते हैं। विमानों को साइन नाम एयर इंडिया वन दिया जाता है। ये विमान दो दशक पुराने हैं और सरकार एयर इंडिया से किराए पर इन्हें लेती है।

नए विमान में पीएम मोदी के लिए ऑफिस स्पेस, मीटिंग रूम, कई तरह के कम्युनिकेशन सिस्टम होंगे तो इसमें मेडिकल इमर्जेंसी के लिए भी एक अलग सेक्शन होगा। विमान अमेरिका से भारत तक का सफर एक बार में तय कर सकता है, बीच में कहीं फ्यूल लेने की आवश्यकता नहीं होगी।

इन विमानों का सुरक्षा सिस्टम दुश्मन के रडार को जाम कर सकता है और हीट सीकिंग मिसाइलों को भटकाने की क्षमता रखता है। अमेरिकी प्रशासन ने फरवरी 2019 में भारत के लिए वीवीआईपी एयरक्राफ्ट में SPS लगाने की मंजूरी दी थी।

देश के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के लिए दो बेहद खास विमान बोइंग-777 सितंबर अंत तक भारत आने की संभावना है। इस मामले से जुड़े दो अधिकारियों ने बताया कि मिसाइल अटैक से भी सुरक्षित ये विमान सिक्यॉरिटी फीचर्स के मामले में अमेरिकी राष्ट्रपति के विमान जैसे होंगे। पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर अधिकारियों ने बताया कि पहला हेड ऑफ स्टेट बोइंग-777 विमान अमेरिका से अगस्त के अंत में भारत आएगा और दूसरा इसके अगले महीने। ये विमान सेल्फ प्रोटेक्शन सूइट्स (SPS) से लैस होंगे। इन्फ्रारेड रोधी, अडवांस डिफेंस इलेक्ट्रॉनिक वॉरफेयर सूइट्स और मिसाइल हमलों से बचाने वाली तकनीक इन विमानों को बेहद खास बनाते हैं। अधिकारियों ने बताया कि ये विमान अमेरिकी राष्ट्रपति के एयरफोर्स वन विमान जितने सुरक्षित होंगे। एयर इंडिया ने एक जोड़ी बोइंग 777-300 ER एयरक्राफ्ट उत्तरी टेक्सास में स्थित बोइंग फैसिलिटी में भेजे हैं। इन्हें वीवीआईपी ट्रैवल के लिए नए अवतार में बदला जा रहा है। जिसमें मिसाइल डिफेंस सिस्टम लगाना भी शामिल है। बताया जा रहा है कि दोनों विमान 3 साल से कम पुराने हैं। इन विमानों में पीएम मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू सफर करेंगे। सेंट्रर ऑफ एयर पावर स्टडीज (CAPS) के डायरेक्टर जनरल एयर मार्शल (रिटा.) केके नोहवार ने कहा, ''अति विशिष्ट लोगों पर हमेशा खतरा होता है। एक देश को अपने टॉप लीडर्स की सुरक्षा के लिए हर कदम उठाने चाहिए।'' अभी पीएम, राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति एयर इंडिया के बोइंग 747 विमानों में सफर करते हैं। विमानों को साइन नाम एयर इंडिया वन दिया जाता है। ये विमान दो दशक पुराने हैं और सरकार एयर इंडिया से किराए पर इन्हें लेती है। नए विमान में पीएम मोदी के लिए ऑफिस स्पेस, मीटिंग रूम, कई तरह के कम्युनिकेशन सिस्टम होंगे तो इसमें मेडिकल इमर्जेंसी के लिए भी एक अलग सेक्शन होगा। विमान अमेरिका से भारत तक का सफर एक बार में तय कर सकता है, बीच में कहीं फ्यूल लेने की आवश्यकता नहीं होगी। इन विमानों का सुरक्षा सिस्टम दुश्मन के रडार को जाम कर सकता है और हीट सीकिंग मिसाइलों को भटकाने की क्षमता रखता है। अमेरिकी प्रशासन ने फरवरी 2019 में भारत के लिए वीवीआईपी एयरक्राफ्ट में SPS लगाने की मंजूरी दी थी।