1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. रामदेव का अब ज्योतिष विद्या पर बड़ा हमला, बोले- पूरे एक लाख करोड़ की है ये इंडस्ट्री

रामदेव का अब ज्योतिष विद्या पर बड़ा हमला, बोले- पूरे एक लाख करोड़ की है ये इंडस्ट्री

एलोपैथी विवाद अभी थमा नहीं है। इसके बाद अब योग गुरु स्वामी रामदेव ने ज्योतिष विद्या पर बड़ा हमला बोला है। रामदेव ने कहा कि सारे मुहूर्त भगवान ने बना रखे हैं। ज्योतिषी काल, घड़ी, मुहूर्त के नाम पर बहकाते रहते हैं। यह भी पूरे एक लाख करोड़ की इंडस्ट्री है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Now Ramdevs Big Attack On Astrology Said This Industry Is Worth One Lakh Crores

नई दिल्ली। एलोपैथी विवाद अभी थमा नहीं है। इसके बाद अब योग गुरु स्वामी रामदेव ने ज्योतिष विद्या पर बड़ा हमला बोला है। रामदेव ने कहा कि सारे मुहूर्त भगवान ने बना रखे हैं। ज्योतिषी काल, घड़ी, मुहूर्त के नाम पर बहकाते रहते हैं। यह भी पूरे एक लाख करोड़ की इंडस्ट्री है।

पढ़ें :- नहीं लगवाई कोरोना वैक्सीन तो ब्लॉक कर दिया जाएगा सिम कार्ड, जानें कहां हुआ फैसला?

बैठे-बैठे ही किस्मत बताते हैं। जब मोदी जी ने पांच सौ और एक हजार के नोट बंद किए तो किसी को पता नहीं चला। किसी ज्योतिषी ने यह भी नहीं बताया कि कोरोना आने वाला है। किसी ने नहीं बताया कि इसके बाद ब्लैक फंगस भी आने वाला है।

वह योग शिविर में साधकों से बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि किसी ने यह नहीं बताया कि कोरोना का समाधान बाबा रामदेव कोरोनिल से देने वाले हैं। मैं तो विशुद्ध रूप से हिंदी और संस्कृत बोलता हूं। बीच-बीच में अंग्रेजी बोलने वालों को भी ठोकता हूं। क्योंकि यह बोलते थे कि हिंदी और संस्कृत बोलने वाला बड़ा आदमी नहीं बन सकता।अब हिंदी व संस्कृत बोलने वाले ने ऐसे झंडे गाड़ दिए कि सब कहते हैं कि हिंदी पढ़नी चाहिए, संस्कृत पढ़नी चाहिए। उन्होंने कहा कि आगे गुरुकुल में पढ़ने वाले ही देश चलाएंगे। 20-25 साल बाद बताऊंगा प्रयोग करके।

पतंजलि ने मछली पर किया कोरोनिल का परीक्षण: आईएमए

पतंजलि ने कोरोनिल का परीक्षण उत्तराखंड की नदियों में पाई जाने वाली जेब्रा फिश पर किया है। आईएमए उत्तराखंड के सचिव डॉ. अजय खन्ना ने यह दावा किया है। उन्होंने कहा कि खुद पतंजलि ने पाइथोमेडिसिन जर्नल में छपे शोधपत्र में इस बात की जानकारी दी है।

पढ़ें :- झारखंड में कोरोना वैक्सीन की सबसे ज्यादा बर्बादी , केरल-बंगाल में हुआ पूरा उपयोग

उन्होंने कहा कि नियमानुसार मछली पर परीक्षण की गई दवा, मनुष्यों पर इस्तेमाल नहीं की जा सकती। कहा कि मछली पर भी ठीक ढंग से परीक्षण नहीं किया गया। मछली को कोरोना संक्रमित करने के बाद कोरोनिल दी जानी चाहिए थी। ताकि, पता चले कि उसका वायरस पर कुछ असर हो रहा है या नहीं, लेकिन ऐसा नहीं किया गया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X