1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. प्रियंका चतुर्वेदी के बाद अब शशि थरूर ने किया बॉय-बॉय, जानिए वजह

प्रियंका चतुर्वेदी के बाद अब शशि थरूर ने किया बॉय-बॉय, जानिए वजह

संसद के शीतकालीन सत्र (Winter Session of Parliament) से राज्यसभा के 12  सांसदों के निलंबन का मामला ठंडा होने का नाम नहीं ले रहा है। संसद से लेकर सड़क तक इस पर विरोध-प्रदर्शन जारी है। शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी (Priyanka Chaturvedi) के एक दिन बाद अब कांग्रेस सांसद शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने संसद टीवी शो (Sansad Tv Shows) में नहीं जाने का फैसला किया है। शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने कहा कि वह संसद टीवी शो में तब तक नहीं जाएंगे जब तक सांसदों का निलंबन वापस नहीं लिया जाता है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र (Winter Session of Parliament) से राज्यसभा के 12  सांसदों के निलंबन का मामला ठंडा होने का नाम नहीं ले रहा है। संसद से लेकर सड़क तक इस पर विरोध-प्रदर्शन जारी है। शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी (Priyanka Chaturvedi) के एक दिन बाद अब कांग्रेस सांसद शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने संसद टीवी शो (Sansad Tv Shows) में नहीं जाने का फैसला किया है। शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने कहा कि वह संसद टीवी शो में तब तक नहीं जाएंगे जब तक सांसदों का निलंबन वापस नहीं लिया जाता है।

पढ़ें :- प्रो. पीके मिश्रा का इस्तीफा, तो विनय पाठक पर गंभीर आरोपों के बाद राजभवन की 'मेहरबानी' का क्या है 'राज'?

थरूर संसद टीवी (Sansad Tv) पर टॉक शो “टू द पॉइंट” की मेजबानी करते रहे हैं, लेकिन पिछले सप्ताह में राज्यसभा के 12 सांसदों के निलंबन करने के बाद विपक्षी दलों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। विपक्षी दलों ने साफ कर दिया कि वह संसद की कार्यवाही में तब तक हिस्सा नहीं लेंगे जब तक सांसदों के निलंबन को वापस नहीं ले लिया जाता है। विपक्षी पार्टियों के नेता संसद भवन के बाहर गांधी प्रतिमा के सामने विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

पढ़ें :- Parliament Live : पीएम मोदी, बोले- '2004 से 14 तक घोटालों का दशक, UPA ने मौकों को मुसीबत में पलटा'

शशि थरूर ने कहा कि हमारे राजनीतिक मतभेद हो सकते हैं, लेकिन संसदीय संस्थानों के कार्यक्रमों में जाने और शामिल होने से हमें कोई रोक नहीं सकता। थरूर ने कहा  “मेरा मानना है कि शो की मेजबानी के लिए संसद टीवी के निमंत्रण को स्वीकार करना भारत के संसदीय लोकतंत्र की परंपराओं में से एक है। संसद सदस्यों के रूप हमें संसदीय संस्थानों में हिस्सा लेने का पूर्ण अधिकार है और इसे कोई रोक नहीं सकता, लेकिन मनमाने ढंग से सांसदों को निष्कासित करना सरकार की लोकतांत्रिक नीति पर सवाल खड़े करता है।

शशि थरूर का बयान शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी के एक दिन बाद आया है। बता दें कि प्रियंका चतुर्वेदी ने संसद टीवी के शो “मेरी कहानी” की एंकरिंग करती थीं, सांसदों के निलंबन के बाद उन्होंने भी प्रोग्राम को छोड़ दिया है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...