कॉपी-किताब पर नहीं चढ़ा सकते हैं प्लास्टिक कवर, दिल्ली सरकार ने दिया आदेश

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने सभी स्कूलों में आदेश दिया है कि अब विद्यार्थियों की कॉपी-किताब से प्लास्टिक के कवर हटाने होंगे। प्लास्टिक के थैलों और ऐसी अन्य सामग्री के उपयोग पर दिल्ली हाईकोर्ट के प्रतिबंध के बाद सरकार ने यह आदेश जारी किया है। दिल्ली सरकार के शिक्षा निदेशालय के आदेश में कहा गया कि, ‘सभी प्राचार्यों को यह सुनिश्चित करने का आदेश दिया जाता है कि वे अपने अपने स्कूलों में कॉपियों, किताबों पर कवर चढ़ाने के लिए किसी भी प्रकार के प्लास्टिक कवर या फिल्म का इस्तेमाल न होने दें।’

Now Students Cannot Put Plastic Cover On Books And Notebooks Delhi Govt To Schools :

दिल्ली के स्कूलों में नया सेशन शुरू हो गया है और इस समय स्टूडेंट्स नई बुक्स और नोटबुक खरीद रहे हैं। ऐसे में दिल्ली सरकार के पर्यावरण विभाग की ओर से शिक्षा विभाग को कहा गया था कि वे स्कूलों के लिए निर्देश जारी करें ताकि नये सेशन से यह नियम सख्ती से लागू हो सके। जानकारों का कहना है कि स्टूडेंट्स की बुक्स पर प्लास्टिक का कवर जरूर होता है। यहां तक कि स्कूलों से जो किताबें मिलती हैं उनके साथ भी प्लास्टिक के ही कवर दिए जाते हैं। पर्यावरण के मसलों पर काम करने वाले कार्यकर्ताओं ने सरकार से अपील की थी कि स्कूलों में प्लास्टिक के प्रयोग को रोकने की दिशा में पहल की जाए। स्कूलों ने भी इस मुहिम का समर्थन किया है। वीएसपीके इंटरनैशनल स्कूल के चेयरमैन एस. के. गुप्ता का कहना है कि स्टूडेंट्स को प्लास्टिक के खतरों के बारे में समय- समय पर बताया जाता है। शिक्षा विभाग ने जो आदेश जारी किया है, उसके बारे में मॉर्निंग असेंबली में स्टूडेंट्स को बताया जाएगा।

शिक्षा निदेशालय ने भी इस संबंध में सभी स्कूल प्रमुखों को निर्देश जारी कर दिया है, जिसमें हाई कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए इसे सुनिश्चित करने को कहा गया है।

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने सभी स्कूलों में आदेश दिया है कि अब विद्यार्थियों की कॉपी-किताब से प्लास्टिक के कवर हटाने होंगे। प्लास्टिक के थैलों और ऐसी अन्य सामग्री के उपयोग पर दिल्ली हाईकोर्ट के प्रतिबंध के बाद सरकार ने यह आदेश जारी किया है। दिल्ली सरकार के शिक्षा निदेशालय के आदेश में कहा गया कि, ‘सभी प्राचार्यों को यह सुनिश्चित करने का आदेश दिया जाता है कि वे अपने अपने स्कूलों में कॉपियों, किताबों पर कवर चढ़ाने के लिए किसी भी प्रकार के प्लास्टिक कवर या फिल्म का इस्तेमाल न होने दें।’ दिल्ली के स्कूलों में नया सेशन शुरू हो गया है और इस समय स्टूडेंट्स नई बुक्स और नोटबुक खरीद रहे हैं। ऐसे में दिल्ली सरकार के पर्यावरण विभाग की ओर से शिक्षा विभाग को कहा गया था कि वे स्कूलों के लिए निर्देश जारी करें ताकि नये सेशन से यह नियम सख्ती से लागू हो सके। जानकारों का कहना है कि स्टूडेंट्स की बुक्स पर प्लास्टिक का कवर जरूर होता है। यहां तक कि स्कूलों से जो किताबें मिलती हैं उनके साथ भी प्लास्टिक के ही कवर दिए जाते हैं। पर्यावरण के मसलों पर काम करने वाले कार्यकर्ताओं ने सरकार से अपील की थी कि स्कूलों में प्लास्टिक के प्रयोग को रोकने की दिशा में पहल की जाए। स्कूलों ने भी इस मुहिम का समर्थन किया है। वीएसपीके इंटरनैशनल स्कूल के चेयरमैन एस. के. गुप्ता का कहना है कि स्टूडेंट्स को प्लास्टिक के खतरों के बारे में समय- समय पर बताया जाता है। शिक्षा विभाग ने जो आदेश जारी किया है, उसके बारे में मॉर्निंग असेंबली में स्टूडेंट्स को बताया जाएगा। शिक्षा निदेशालय ने भी इस संबंध में सभी स्कूल प्रमुखों को निर्देश जारी कर दिया है, जिसमें हाई कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए इसे सुनिश्चित करने को कहा गया है।