अब मोबाइल में बैटरी की झंझट खत्म, आ गया बिना बैटरी के चलने वाला फोन

नई दिल्ली।आज के दौर में मोबाइल फोन की उपयोगिता से हम सब भली-भाति परिचित है, आलम यह है कि बिना मोबाइल फोन के कुछ ही देर में बैचनी शुरू हो जाती है। मैंने कई लोगों को देखा है कि अगर कही सफर करना हैं तो वे सबसे पहले अपना मोबाइल फोन फुल चार्ज करते है, फिर चार्जर को बैग में रखते है। उन्हें इस बात का डर सताता रहता है कि अगर मेरा फ़ोन ऑफ हो गया तो हम कैसे जाएंगे। ऐसा लगता है जैसे फोन चार्ज नहीं है तो वे सफर ही नहीं कर पाएंगे। इस समस्या की गंभीरता को समझते हुए कुछ शोधकर्ताओं ने कुछ ऐसा इजात किया है जिसे जान आपको भी मज़ा आ जाएगा।

दरअसल, अब चार्जर, तारें और बैटरी खत्म होने के झंझट से मुक्ति दिलाने के लिए शोधकर्ताओं ने एक ऐसे सेलफोन का आविष्कार किया है, जो बिना बैटरी के चलती है। इन शोधकर्ताओं में एक भारतीय मूल का शोधार्थी भी शामिल है। बैटरी की बजाय यह फोन या तो आसपास के रेडियो सिगनल से ऊर्जा ग्रहण करता है या उपलब्ध प्रकाश से ऊर्जा ग्रहण करता है।

{ यह भी पढ़ें:- शराबी पिता ने 11 माह के बच्चे को बेचा, पैसों की पी गया शराब }

शोध दल ने इस बिना बैटरी के फोन से स्काईप कॉल करने में भी सफलता हासिल की है। प्रोसीडिंग ऑफ द एसोसिएशन ऑफ कंप्यूटिंग मशीनरी ऑन इंटरेक्टिव, मोबाइल, वेयरेबल और यूबिक्विटस टेक्नॉलजीज जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट में बताया गया है कि इस फोन के वाणिज्यिक प्रोटोटाइप ने बेस स्टेसन से आवास को प्राप्त करने तथा उससे कम्यूनिकेट करने में सफलता प्राप्त की है।

यूनिवर्सिटी ऑफ वाशिंगटन के एसोसिएट प्रोफेसर और शोध के सहलेखक श्याम गोलाकोटा ने कहा, “हमने पहला ऐसा सेलफोन बनाया है जो जीरो ऊर्जा में काम करता है। इस तरह का फोन काम करे इसके लिए आपको पर्यावरण से ही ऊर्जा हासिल करनी होती है। हमने मौलिक रूप से पूर्नविचार करना होगा कि इन डिवाइसों को किस प्रकार से डिजायन किया जाए।” शोधकर्ताओं ने बताया कि यह फोन बातचीत के दौरान या स्पीकर से आवाज निकलने के होने वाली सूक्ष्म थरथराहट से भी ऊर्जा ग्रहण करता है।

{ यह भी पढ़ें:- Alert: अगर स्मार्टफोन में मौजूद हैं ये 4 Apps, तुरंत हटाएं, PAK कर रहा जासूसी }