भारत में TikTok विडियो ऐप हुआ बैन, Google ने भी प्ले स्टोर पर किया ब्लॉक

social sites
एक बार फिर इस सोश्ल नेटवर्किंग प्लेटफ़ार्म के यूजर्स का पासवर्ड हुआ लीक

नई दिल्ली। Google ने मद्रास उच्च न्यायालय के निर्देशों का पालन करते हुए भारत में बेहद पसंदीदा वीडियो ऐप टिकटॉक को ब्लॉक कर दिया है। अब गूगल के प्ले स्टोर ऐप से टिकटॉक वीडियो ऐप को डाउनलोड नहीं किया जा सकता है। टिकटॉक को लेकर यह कदम उस फैसले के बाद आया है, जिसमें हाईकोर्ट ने चीन की कंपनी बाइटडांस टेक्नोलॉजी के उस अनुरोध को अस्वीकार कर दिया था, जिसमें कंपनी ने कोर्ट से टिकटॉक ऐप पर से बैन खत्म करने को कहा था।

Now Tiktok Video App Has Been Banned In India Google Has Also Blocked It On Play Store :

दरअसल, मद्रास हाईकोर्ट ने 3 अप्रैल को केंद्र से टिकटॉक पर बैन लगाने को कहा था। साथ ही कोर्ट ने कहा था कि टिकटॉक ऐप पॉर्नोग्राफी को बढ़ावा देता है और बच्चों को यौन हिंसक बना रहा है। बता दें कि टिकटॉप पर अश्लील सामग्री परोसने का आरोप है।

वहीं, टिकटॉक ऐप पर यह फैसला तब आया जब एक व्यक्ति ने इस पर प्रतिबंध के लिए एक जनहित याचिका दायर की। आईटी मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार, केंद्र ने उच्च न्यायालय के आदेश का पालन करने के लिए Apple और Google को एक पत्र भेजा था। सरकार ने गूगल और एपल को मद्रास उच्च न्यायालय के उस आदेश का पालन करने को कहा है जिसमें लोकप्रिय मोबाइल एप टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाया है।

हलाकी, भारत में टिकटॉक ऐप अभी भी ऐपल के प्लेटफार्मों पर मंगलवार देर रात तक उपलब्ध था, लेकिन Google के प्ले स्टोर पर उपलब्ध नहीं था। Google ने एक बयान में कहा कि यह इस ऐप्स पर टिप्पणी नहीं करता है लेकिन स्थानीय कानूनों का पालन करता है।

बता दें, मद्रास हाईकोर्ट ने अपने आदेश में कहा था कि मीडिया रिपोर्टों से स्पष्ट किया है कि इस तरह के मोबाइल ऐप के जरिए अश्लील और अनुचित कंटेन्ट उपलब्ध कराया गया है। अदालत ने मीडिया को टिकटॉक से बने वीडियो का प्रसारण नहीं करने का भी निर्देश दिया था। टिकटॉक ऐप का मालिकाना हक चीन की कंपनी बाइटडांस के पास है। यह ऐप लोगों को छोटे वीडियो बनाने और उन्हें साझा करने की सुविधा देता है। टिकटॉक ने मंगलवार को बयान में कहा कि उसे भारतीय न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा है।

यही नहीं, टिकटॉक ऐप्प पर सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से इनकार किया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिलहाल हाई कोर्ट मामले कोर्ट सुनवाई कर रहा है और अब अगली सुनवाई 23 अप्रैल को होगी। मदुरै हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है और याचिका में हाई कोर्ट के आदेश पर रोक लगाने की मांग की गई है। दरसअल मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है कि वह वीडियो ऐप टिकटॉक की डाउनलोडिंग पर बैन लगाए। साथ ही कोर्ट ने मीडिया को निर्देश दिया है कि वो इसका प्रसारण ना करें।

नई दिल्ली। Google ने मद्रास उच्च न्यायालय के निर्देशों का पालन करते हुए भारत में बेहद पसंदीदा वीडियो ऐप टिकटॉक को ब्लॉक कर दिया है। अब गूगल के प्ले स्टोर ऐप से टिकटॉक वीडियो ऐप को डाउनलोड नहीं किया जा सकता है। टिकटॉक को लेकर यह कदम उस फैसले के बाद आया है, जिसमें हाईकोर्ट ने चीन की कंपनी बाइटडांस टेक्नोलॉजी के उस अनुरोध को अस्वीकार कर दिया था, जिसमें कंपनी ने कोर्ट से टिकटॉक ऐप पर से बैन खत्म करने को कहा था। दरअसल, मद्रास हाईकोर्ट ने 3 अप्रैल को केंद्र से टिकटॉक पर बैन लगाने को कहा था। साथ ही कोर्ट ने कहा था कि टिकटॉक ऐप पॉर्नोग्राफी को बढ़ावा देता है और बच्चों को यौन हिंसक बना रहा है। बता दें कि टिकटॉप पर अश्लील सामग्री परोसने का आरोप है। वहीं, टिकटॉक ऐप पर यह फैसला तब आया जब एक व्यक्ति ने इस पर प्रतिबंध के लिए एक जनहित याचिका दायर की। आईटी मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार, केंद्र ने उच्च न्यायालय के आदेश का पालन करने के लिए Apple और Google को एक पत्र भेजा था। सरकार ने गूगल और एपल को मद्रास उच्च न्यायालय के उस आदेश का पालन करने को कहा है जिसमें लोकप्रिय मोबाइल एप टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाया है। हलाकी, भारत में टिकटॉक ऐप अभी भी ऐपल के प्लेटफार्मों पर मंगलवार देर रात तक उपलब्ध था, लेकिन Google के प्ले स्टोर पर उपलब्ध नहीं था। Google ने एक बयान में कहा कि यह इस ऐप्स पर टिप्पणी नहीं करता है लेकिन स्थानीय कानूनों का पालन करता है। बता दें, मद्रास हाईकोर्ट ने अपने आदेश में कहा था कि मीडिया रिपोर्टों से स्पष्ट किया है कि इस तरह के मोबाइल ऐप के जरिए अश्लील और अनुचित कंटेन्ट उपलब्ध कराया गया है। अदालत ने मीडिया को टिकटॉक से बने वीडियो का प्रसारण नहीं करने का भी निर्देश दिया था। टिकटॉक ऐप का मालिकाना हक चीन की कंपनी बाइटडांस के पास है। यह ऐप लोगों को छोटे वीडियो बनाने और उन्हें साझा करने की सुविधा देता है। टिकटॉक ने मंगलवार को बयान में कहा कि उसे भारतीय न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा है। यही नहीं, टिकटॉक ऐप्प पर सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से इनकार किया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिलहाल हाई कोर्ट मामले कोर्ट सुनवाई कर रहा है और अब अगली सुनवाई 23 अप्रैल को होगी। मदुरै हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है और याचिका में हाई कोर्ट के आदेश पर रोक लगाने की मांग की गई है। दरसअल मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है कि वह वीडियो ऐप टिकटॉक की डाउनलोडिंग पर बैन लगाए। साथ ही कोर्ट ने मीडिया को निर्देश दिया है कि वो इसका प्रसारण ना करें।