1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. अब इस तकनीक से बिना ओपन हार्ट सर्जरी संभव होगा वॉल्व रिप्लेसमेंट

अब इस तकनीक से बिना ओपन हार्ट सर्जरी संभव होगा वॉल्व रिप्लेसमेंट

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

लखनऊ। आज का दौर ऐसा है कि हर दूसरा व्यक्ति किसी न किसी बीमारी से जूझ रहा है। वहीं सबसे ज्यादा दिल के मरीज है और उससे जुड़ी तमाम परेशानियों का सामना कर रहें हैं। समय के साथ-साथ इलाज का तरीका भी बदल गया जहां 20 साल पहले केवल सर्जरी का उपयोग करते थे।

दरअसल, आज इंटरवेंशन कार्डियोलॉजी के विकास के चलते दिल की 80 फीसद बीमारियों का इलाज बिना सर्जरी संभव है। इंटरवेंशन की तमाम नई तकनीक पर चर्चा और विस्तार के लिए संजय गाधी पीजीआइ में पांच अप्रैल से तीन दिवसीय नेशनल इंटरवेंशन काउंसिल का विशेष अधिवेशन और वर्कशाप का आयोजन किया जाएगा। 

वहीं विभाग के प्रमुख प्रो.पीके गोयल, प्रो.आदित्य कपूर, प्रो.सत्येंद्र तिवारी, प्रो.नवीन गर्ग और प्रो.सुदीप कुमार के मुताबिक एंजियोप्लास्टी तो हम लोग 25 साल से कर रहे हैै लेकिन वॉल्व रिप्लेसमेंट भी इस तकनीक से होने लगा है। इसके लिए पहले केवल ओपन सर्जरी ही विकल्प था।

कार्डियो विशेषज्ञों के मुताबिक वॉल्व रिप्लेसमेंट अभी मंहगा है लेकिन जैसे-जैसे यह लोकप्रिय होगा कीमत कम होगी। यह तकनीक उन लोगों में काफी कारगर है। जिसमें बेहोशी देना संभव नहीं हो पाता है। इस दौरान विशेष रूप से नए कार्डियोलाजिस्ट के लिए शैक्षणिक सत्र होगा। अधिवेशन में 1500 कार्डियोलाजिस्ट,  25 इंटरनेशनल कार्डियोलाजिस्ट शामिल होंगे। 

बता दें, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू पांच अप्रैल की शाम एनआइसी का उद्घाटन करेंगे। वह 35 मिनट अपनी बात रखेंगे। कुल 59 मिनट का समय पीजीआइ में देंगे। राजभवन से वह संस्थान आएंगे। उपराष्ट्रपति पहली बार संस्थान के किसी कार्यक्रम में शिरकत करेंगे। 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...