एनआरएचएम घोटाला: पूर्व मंत्री अंटू मिश्रा के मां-बाप को मिली जमानत

गाजियाबाद: उत्तर प्रदेश की पूर्व बसपा सरकार में बहुचर्चित एनआरएचएम घोटाले में फंसे उत्तर प्रदेश के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अनंत कुमार मिश्रा उर्फ अंटू मिश्रा की मां विमला मिश्र व पिता दिनेश मिश्र को सीबीआई कोर्ट से जमानत मिल गई। दोनों ने दो-दो लाख रुपए के बांड कोर्ट में जमा किए। अदालत ने उन्हें मुकदमे से संबंधित गवाहों से छेड़छाड़ न करने की चेतावनी दी है साथ ही पासपोर्ट जमा कराने आदेश दिया। बचाव पक्ष ने बताया कि पहले ही पासपोर्ट सीबीआई के पास जमा किया जा चुका है। सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर इस घोटाले में अभी अनंत मिश्र को 13.50 करोड़ रुपए सीबीआई कोर्ट में तीस दिसम्बर तक जमा कराना है। इसके पहले भी वह न्यायालय में 13.50 करोड़ रुपए जमा करा चुके हैं।




प्रदेश के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अंटू मिश्र, उनकी माता विमला मिश्र और पिता दिनेश मिश्र पर एनआरएचएम घोटाले में 27 करोड़ रुपए के घोटाले के आरोप लगे थे। सीबीआई को पता चला था कि अंटू मिश्र ने अपने मां-बाप के नाम पर फर्जी संस्था बनाकर रुपए का आदान-प्रदान किया था। सीबीआई ने जांच में तीनों को आरोपी बनाते हुए गिरफ्तारी के वारंट जारी किए थे। अंटू मिश्र ने सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। न्यायालय ने 21 अक्टूबर को गिरफ्तारी पर स्टे देते हुए आदेश दिया था कि वह सीबीआई कोर्ट में चार सप्ताह के भीतर 13.50 करोड़ रुपये जमा करें। अंटू मिश्र ने तीन नवम्बर को न्यायालय में 13.50 करोड़ रुपये जमा करा दिया था। रुपए जमा कराने के बाद दोबारा सर्वोच्च न्यायालय पहुंचे तो गिरफ्तारी पर स्टे बढ़ाते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने घोटाले की शेष धनराशि 13.50 करोड़ रुपए भी जमा कराने का आदेश दिया।