एनआरएचएम घोटाले में सीबीआई ने 21 ठिकानों पर मारे छापे

लखनऊ: एनआरएचएम घोटाले में बुधवार को सीबीआई ने लखनऊ समेत विभिन्न शहरों के 21 ठिकानों पर छापे मारे। छापे की कार्रवाई देर रात तक चलती रही। लखनऊ में सीबीआई की टीम ने लखनऊ के पूर्व सीएमओ डा. एके शुक्ल के जानकीपुरम आवास पर छापा मारा है। छापे की कार्रवाई लखनऊ, इलाहाबाद, देहरादून व अमृतसर में एक साथ की गयी। छापे में एनआरएचएम घोटाले में लिप्त चिकित्सा विभाग के अधिकारियों, डाक्टरों व कर्मचारियों के ठिकानों पर छापे मारे गये हैं। इस दौरान सीबीआई को घोटाले से संबंधित तमाम दस्तावेज तथा अन्य तय मिले हैं जिन्हें सीबीआई ने जब्त कर लिया है। छापे की कार्रवाई देर रात तक जारी रही।

रायबरेली जिले में वर्ष 2007 से 2010 के बीच नसबंदी किट खरीदने में वहां तैनात स्वास्थ्य अधिकारियों और दवा सप्लायरों की मिली भगत से 80 लाख रुपये की हेराफेरी का आरोप है। इस सिलसिले में तीन मुकदमे दर्ज हैं। आरोपियों के आवास और अन्य ठिकानों पर छापेमारी की गयी। रायबरेली में घोटाले के सिलसिले में दर्ज मुकदमों की विवेचना सीबीआइ के सीनियर इंस्पेक्टर डॉ. जहीर अख्तर कर रहे हैं। उनकी अगुवाई में सीबीआइ ने लखनऊ में छापेमारी शुरू की जबकि दूसरे शहरों में सीबीआइ की अलग टीमें लगायी गयीं। रायबरेली में घोटाले के समय सीएमओ, सीएमएस, एसीएमओ और अन्य प्रमुख पदों पर तैनात रहे अधिकारी आरोपी बनाये गये हैं। उनमें ज्यादातर लोग लखनऊ में ही रहते हैं।




सीबीआइ से मिली जानकारी के मुताबिक लखनऊ में कुल 16 जगह छापेमारी की गयी। इसमें प्रमुख रूप से रायबरेली और लखनऊ में सीएमओ रहे डॉ. एके शुक्ला के आवास पर छापेमारी की गयी। डॉ. शुक्ला के अलावा रायबरेली में सीएमएएस रहे डॉ. प्रदीप मिश्रा के हैबलाक रोड स्थित आवास, डिप्टी सीएमओ डॉ. एसके चक के गोमतीनगर के विभव खंड, अब नगर स्वास्थ्य अधिकारी हो चुके डॉ. पीके सिंह के डालीबाग, दवा विक्रेता अनिल कुमार सिंह के अलीगंज, सीनियर मेडिकल अफसर डॉ. रिजवान कुरैशी के डालीगंज, मौजूदा समय में जेडी और पूर्व एसीएमओ डॉ. ओपी वर्मा के विपुलखंड स्थित आवास पर सीबीआइ ने छापेमारी की। सभी घोटाले के समय रायबरेली में तैनात थे। इनके यहां से महत्वपूर्ण दस्तावेज बरामद किये गये हैं। सीबीआइ अधिकारियों का कहना है कि छानबीन के बाद साफ होगा कि किसने क्या गड़बड़ी की है।

सीबीआइ टीम ने रायबरेली में सीएमएस रह चुके डॉ. वीएस त्रिपाठी के इलाहाबाद और महिला चिकित्सालय में सीएमएस रह चुकीं डॉ. शशि सक्सेना के देहरादून स्थित आवास पर भी छापेमारी की। अमृतसर की तीन दवा फैक्ट्रियों में भी छापेमारी की गयी। इनमें क्वालिटी फार्मास्युटिकल, ओसियन आर्गेनिक प्राइवेट लिमिटेड और मेसर्स जैक्सन प्रमुख हैं। दवा आपूर्तिकर्ता अनुपम गुप्ता और कुलदीप शर्मा के ठिकानों पर भी छापेमारी हुई।