नृपेंद्र मिश्रा बने रहेंगे पीएम मोदी के प्रधान सचिव, कैबिनेट मंत्री दर्जे के साथ पांच साल बढ़ाया गया कार्यकाल

pm modi
भ्रष्टाचार पर मोदी सरकार का प्रहार, केंद्र ने मांगी भ्रष्ट और नकारा कर्मियों की सूची

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री ​नरेन्द्र मोदी के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा का कार्यकाल फिलहाल पांच साल के लिए फिर से बढ़ा दिया गया है। वहीं अतिरिक्त प्रधान सचिव पीके मिश्रा का भी कार्यकाल पांच साल के लिए बढ़ा दिया गया है। वहीं दोनों अधिकारियों को कैबिनेट मंत्री का दर्जा भी दिया गया है।

Nripendra Misra Reappointed Principal Secretary To Prime Minister :

कार्मिक मंत्रालय के के वरिष्ठ अधिकारियों की मानें तो कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने 31 मई के प्रभाव से दोनों की नियुक्तियों को मंजूरी दी है। अब इन दोनों ही अधिकारियों का कार्यकाल भी पीएम नरेन्द्र मोदी के कार्यकाल के साथ ही समाप्त होगा। बता दें कि इससे पहले नृपेंद्र मिश्रा को 28 मई 2014 को प्रधानमंत्री का प्रधान सचिव नियुक्त किया गया था।

बता दें कि नृपेंद्र मिश्रा 2006 से 2009 के बीच भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण के अध्यक्ष का पद भी संभाल चुके हैंं। वो मूलरूप से यूपी के रहने वाले हैं और राजनीति शास्त्र एवं लोक प्रशासन में स्नातकोत्तर हैं। वर्ष 2007 इन्ही की अध्यक्षता में ट्राई ने सिफारिश की थी कि स्पेक्ट्रम की नीलामी की जानी चाहिए।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री ​नरेन्द्र मोदी के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा का कार्यकाल फिलहाल पांच साल के लिए फिर से बढ़ा दिया गया है। वहीं अतिरिक्त प्रधान सचिव पीके मिश्रा का भी कार्यकाल पांच साल के लिए बढ़ा दिया गया है। वहीं दोनों अधिकारियों को कैबिनेट मंत्री का दर्जा भी दिया गया है। कार्मिक मंत्रालय के के वरिष्ठ अधिकारियों की मानें तो कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने 31 मई के प्रभाव से दोनों की नियुक्तियों को मंजूरी दी है। अब इन दोनों ही अधिकारियों का कार्यकाल भी पीएम नरेन्द्र मोदी के कार्यकाल के साथ ही समाप्त होगा। बता दें कि इससे पहले नृपेंद्र मिश्रा को 28 मई 2014 को प्रधानमंत्री का प्रधान सचिव नियुक्त किया गया था। बता दें कि नृपेंद्र मिश्रा 2006 से 2009 के बीच भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण के अध्यक्ष का पद भी संभाल चुके हैंं। वो मूलरूप से यूपी के रहने वाले हैं और राजनीति शास्त्र एवं लोक प्रशासन में स्नातकोत्तर हैं। वर्ष 2007 इन्ही की अध्यक्षता में ट्राई ने सिफारिश की थी कि स्पेक्ट्रम की नीलामी की जानी चाहिए।