1. हिन्दी समाचार
  2. तमिलनाडु के कुडनकुलम परमाणु संयंत्र पर हुआ था साइबर हमला

तमिलनाडु के कुडनकुलम परमाणु संयंत्र पर हुआ था साइबर हमला

By रवि तिवारी 
Updated Date

Nuclear Power Corporation Confirms Malware In Computer At Kudankulam Plant

तमिलनाडु। तमिलनाडु स्थित देश के सबसे बड़े कुडनकुलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र (केकेएनपी)की सुरक्षा में इस साल के शुरुआत में सेंध लगाई गई थी। एक अधिकारी और हैकिंग का पता लगाने में शामिल रहे एक साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ के मुताबिक यह हमला किसी दूसरे देश से किया गया। हालांकि एनपीसीआईएल ने दावा किया है कि इससे सिस्टम प्रभावित नहीं हुआ है। बता दें कि एक दिन पहले यानी मंगलवार को एनपीसीआईएल के अधिकारियों ने कहा था कि सिस्टम पर साइबर हमला संभव ही नहीं है।  

पढ़ें :- Lamborghini ने इलेक्ट्रिक वाहनों की योजना किया ऐलान, पहली इलेक्ट्रिक सुपरकार को 2030 तक किया जाएगा पेश

कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम (सीईआरटी-इन) को चार सितंबर को इस बात की जानकारी मिली थी कि एनसीपीआईएल के कंट्रोल सिसटम में साइबर अटैक किया गया है। जानकारी मिलने के बाद परमाणु ऊर्जा विभाग के विशेषज्ञों की टीम ने तुरंत जांच शुरू की। जांच के दौरान पाया गया कि संस्थान के एक यूजर के सिस्टम में वायरस था और वह सिस्टम इंटरनेट नेटवर्क से जुड़ा हुआ था।

जांच अधिकारियों ने बताया कि यह सिस्टम संस्थान के अहम आतंरिक नेटवर्क से पूरी तरह से अलग था, जिसके कारण किसी भी तरह की कोई दिक्कत नहीं हुई। जांच में भले ही एक सिस्टम में वायरस का पता चला है लेकिन अभी भी नेटवर्क पर लगातार नजर रखी जा रही है।

गौरतलब है कि मंगलवार को एनपीसीआईएल ने दावा किया था कि कुडनकुलम परमाणु संयंत्र के कंट्रोल सिस्टम पर किसी भी तरह का साइबर अटैक संभव नहीं है। कुडनकुलम परमाणु संयंत्र के प्रशिक्षण अधीक्षक और सूचना अधिकारी आर रामदॉस ने कहा कि संयंत्र में जिस तरह के साइबर अटैक की खबरें आ रही हैं वह पूरी तरह से सही नहीं हैं। उन्होंने बताया कि कुडनकुलम और अन्य परमाणु संयंत्र का कंट्रोल सिस्टम वहां मौजूद अन्य नेटवर्क से पूरी तरह से अगल तरीके से काम करता है।  

1000 मेगावाट बिजली उत्पादन करता है संयंत्र

पढ़ें :- 612 अंक उछलकर सेंसेक्स 50200 के करीब और निफ्टी 15100 के पार हुआ बंद

तमिलनाडु के कुडनकुलम परमाणु संयंत्र का निर्माण भारत और रूस ने मिलकर किया है। इस संयंत्र की दो इकाइयो से 1000 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जाता है। पिछले साल ही इरान के नतांज परमाणु संयंत्र के सिस्टम पर स्टक्सनेट नाम के वायरस ने हमला किया था।  

एमके स्टालिन ने चिंता जताते हुए की जांच की मांग

एनपीसीआईएल द्वारा मालवेयर हमले की बात स्वीकार करने के कुछ घंटे बाद द्रमुक अध्यक्ष एमके स्टालिन ने पर्याप्त सुरक्षा उपायों की कमी पर चिंता जाहिर की है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘एनपीसीआईएल केंद्र पर साइबर हमले से हैरानी हो रही है। इससे पर्याप्त सुरक्षा उपायों की कमी का पता चलता है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को चूक की जांच करानी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X