1. हिन्दी समाचार
  2. अगर आप भी ऑफिस में घंटों बैठकर करते हैं काम तो इस बीमारी के हो सकते हैं शिकार

अगर आप भी ऑफिस में घंटों बैठकर करते हैं काम तो इस बीमारी के हो सकते हैं शिकार

Office Stress And Tiredness Causes Burnout Syndrome

By आस्था सिंह 
Updated Date

लखनऊ। आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में खुद की सेहत का खयाल रखना बेहद मुश्किल हो जाता है। अगर आप भी ऑफिस में घंटों बैठ कर काम करते हैं तो आपको थोड़ा सतर्क रहने की जरूरत है। दरअसल अभी हाल ही में, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इंटरनेशनल क्लासिफिकेशन ऑफ डिसीज़ की अपनी लिस्ट में एक बीमारी को शामिल किया है, जिसका नाम ‘बर्नआऊट’। ये बीमारी शारीरिक थकान और तनाव से संबंधित है। जानिए क्या है ‘बर्नआऊट’ और उसके लक्षण के बारे में…..

पढ़ें :- Easy Steps to Write My Essay

क्या है ‘बर्नआऊट’?

  • तनाव और थकान बर्नआऊट जैसी बीमारी के मुख्य कारण हैं।
  • जो लोग काम को पूरा करने के लिए खाना-पीना और निजी जिंदगी को भूल जाते हैं।
  • ऐसे लोग धीरे-धीरे इस बीमारी का शिकार होने लगते हैं।
  • WHO के अनुसार बर्नआऊट सिर्फ पेशेवर लोगों से जुड़ी समस्या है।
  • ये ऐसा सिंड्रोम है, जो काम के अधिक दबाव की वजह से होता है।

बर्न आऊट के लक्षण—

  • हमेशा थकान महसूस होना और चिड़चिड़ा महसूस करना।
  • अपने काम को लेकर संदेह करते रहना।
  • ऑफिस में काम पर ध्यान नहीं लगना।
  • भूख न लगना।
  • ड्रग या एल्कोहल लेने की इच्छा होना।
  • नकारात्मक महसूस करना।
  • दोस्तों और परिवार वालों से बात न करना।

ऐसे बचें बर्नआऊट से—

  • काम को बोझ समझकर ना करें बल्कि दिलचस्पी से साथ पूरा करें, तनाव अपने आप ही खतम हो जाएगा।
  • इस बीमारी से बचने के लिए वो काम करें जिसमें आपको खुशी मिलती है। जैसे किताब पढ़ना, गाना सुनना, हरियाली में बैठना, फिल्म देखने जैसे काम कर सकते हैं।
  • इससे पहले की आप बर्नआऊट की वजह से अनिद्रा, हृदय रोग और टाइप-2 डायबिटीज के शिकार हों, अपने साथियों या बॉस से बात करें और उन्हें काम के दौरान आने वाली समस्याओं से अवगत करें ताकि वो आपको इस समस्या से निकालने में आपकी मदद कर पाएं।
  • अगर आप हमेशा तनाव में रहते हों या थकान महसूस हो, तो इससे उभरने के लिए परिवार या दोस्तों से बात करें। इससे सुकून मिलेगा और हिम्मत भी।
  • योग करें और फल, सब्जियां और फाइबर युक्त भोजन करें।
  • इस बीमारी की कोई दवा नहीं है इसलिए ऐसे लक्षणों पर मनोरोग विशेषज्ञों से सलाह लेनी चाहिए और ऐसे में आप खुद ही अपनी मदद कर सकते हैं।

पढ़ें :- किसान आंदोलनः आज की बैठक भी बेनतीजा, अब 9 दिसंबर को सरकार और किसानों के बीच होगी वार्ता

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...